फसल बीमा योजना में संशोघन हो: सुषमा

  • फसल बीमा योजना में संशोघन हो: सुषमा
You Are HereNational
Monday, February 10, 2014-2:56 PM

नर्इ दिल्ली: लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने आज किसानों की दुर्दशा का मुद्दा उठाते हुए फसल बीमा योजना में संशोधन किए जाने की मांग की। सदन में तेलंगाना मुद्दे को लेकर विभिन्न दलों के सदस्यों द्वारा किए जा रहे हंगामे के बीच सुषमा ने शून्यकाल में यह मुद्दा उठाते हुए कहा कि मध्य प्रदेश के विदिशा में उनके संसदीय क्षेत्र में हाल ही में ओलावृष्टि के कारण किसानों की फसल बर्बाद हो गयी है।
 
उन्होंने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस संबंध में केंद्र से 775 करोड़ रूपये की मदद मांगी थी लेकिन केंद्र से अभी तक कोई जवाब नहीं मिला है। सुषमा ने कहा कि फसल बीमा योजना करने वाली कंपनियां हर किसान से प्रीमियम की राशि लेती है लेकिन जब फसल को हुए नुकसान की भरपाई की बात आती है तो यही कंपनियां एक खेत के बजाय पूरे तहसील या हल्के को ईकाई मानती हैं।
 
विपक्ष की नेता ने कहा कि घर या गाड़ी का बीमा कराने पर घर में आग लगने या दुर्घटना में कार के क्षतिग्रस्त होने पर बीमा कंपनियां मालिक को नुकसान की भरपाई करती हैं लेकिन फसलों के संबंध में यह नीति लागू नहीं की जाती। उन्होंने फसल बीमा योजना की इन खामियों को किसानों के प्रति अत्याचार बताते हुए इस योजना में संशोधन करने की मांग की और इसमें फसल को एक इकाई माने जाने का प्रावधान शामिल किए जाने की पुरजोर वकालत की।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You