न्याय के लिए राजे तक पहुंची तेजाब पीड़िता

  • न्याय के लिए राजे तक पहुंची तेजाब पीड़िता
You Are HereNational
Saturday, March 01, 2014-12:55 PM

उदयपुर: मांगों के लिए कलैक्ट्रेट के बाहर 7 दिन से अनशन कर रही तेजाब पीड़िता गुरुवार को मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की बेरुखी पर रो पड़ी। अधिकारियों ने शालू को भरोसा दिलाया था कि सी.एम. से मिलवाकर उसकी बात रखेंगे।

इस पर पीड़िता महाप्रज्ञ विहार (भुवाणा) के बाहर 4 घंटे इंतजार करती रही। अंदर लोकसभा चुनाव को लेकर पार्टी प्रत्याशियों के चयन की प्रक्रिया चल रही थी। प्रक्रिया के पूरा होते ही सी.एम. निकलीं और कार में बैठ गईं।

शालू अपने दस्तावेज लेकर पहुंची। उसने अपने कागजात देते हुए सी.एम. के सामने अपनी बात रखनी शुरू की ही थी कि काफि ले के साथ सी.एम. चली गईं। सी.एम. के महिला होने के बावजूद महिला से जुड़ी घटना पर ऐसी बेरुखी पर शालू रो पड़ी। उसके साथ आई कांस्टेबल उसे चुप करवाते हुए वापस अनशन स्थल पर ले गई।

रात 11.15 बजे तोड़ा अनशन : प्रशासन और सरकार की अनदेखी पर शालू जैन ने गुरुवार रात 11.15 बजे अनशन समाप्त कर दिया। करीब एक सप्ताह से अनशन के कारण शालू शारीरिक रूप से कमजोर हो गई थी। सूचना मिलने पर भाजपा महिला मोर्चा की पूर्व जिला अध्यक्ष सुषमा कुमावत अनशन स्थल पहुंचीं और अनशन तुड़वाया। शालू को एक प्राइवेट हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You