कांग्रेस ने की मुसलमानों को मनाने की कोशिशें, पूछा गुस्सा क्यों

  • कांग्रेस ने की मुसलमानों को मनाने की कोशिशें, पूछा गुस्सा क्यों
You Are HereNational
Tuesday, March 04, 2014-3:22 PM

नई दिल्ली: आम चुनाव की घोषणा सेचंद रोज पहले कांग्रेस पार्टी ने आज मुसलमानों को मनाने की कोशिश करते हुए उससे भावुक अपील की कि वे उससे ‘गुस्सा’ नहीं हो और यह भावना दर किनार करें कि संप्रग सरकार ने उनकी ‘उपेक्षा’ की है। अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री के रहमान खान ने आज यहां एक समारोह में ये भावुक अपील करते हुए कहा कि मुसलमानों को सरकार से ‘गुस्सा’ नहीं होना चाहिए आखिर वे गुस्से में क्यों हैं।

सरकार ने उनके कल्याण तथा उन्हें सुरक्षा व विश्वास देने के लिए कई प्रभावी कदम व प्रयास किए हैं और मुझे उम्मीद है कि वह वह सब समझेंगे और सरकार के साथ साथ मुस्लिम समाज के प्रतिनिधि भी अब सरकार की योजनाएं तथा सरकार की नेक मंशा उन तक पहुंचाने में रचनात्मक सहयोग देंगे। खान आज यहां अल्पांख्यक बच्चों के स्वास्थ्य के लिए मौलाना आजाद सेहत योजना व अल्प संख्यकों के शैक्षणिक संस्थानों का शैक्षिक स्तर बेहतर करने के लिए ‘नालंदा’ परियोजना का शुभारंभ कर रहे थे। यह पूछे जाने पर कि गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हाल ही में मुसलमानों से माफी मांगी है।

उन्होंने कहा हजारों मुसलमानों के कत्लेआम के बाद यह माफी सिर्फ अवसरवादिता है। समारोह में अल्पसंख्यक मामले के राज्य मंत्री नियोंग ऐरिंग, योजना आयोग की सदस्य सईदा हमीद व मंत्रालय के सचिव ललित के पंवार, अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. ए आर किदवई सहित बडी तादाद में विशिष्ट जन व छात्र व शिक्षक मौजूद थे। रहमान ने कहा कि सरकार ने सच्चर समिति की काफी सिफारिशों लागू करने का काम शुरू कर दिया। सरकार अपना काम कर रही है लेकिन इस वर्ग के जनह्नरतिनिधियों को भी सरकार को सहयोग देना चाहिए और बताना चाहिए क्या काम करना और क्या होना चाहिए।

उन्होंने कहा सरकार ने इन दोनों परियोजनाओं के लिए 100 करोड रुपए स्वीकृत किए हैं। अल्पसंख्यक मंत्रालय के अपने बजट के अलावा अल्पसंख्यक वर्गों के  कल्याण के लिए प्रधानमंत्री के पंद्रह सूत्री कार्यक्रम में भी इनके कल्याण व उत्थान के लिए भारी प्रावधान है। काफी काम हुए हैं, काफी किए जा रहे है और काफी काम काम बाकी है लेकिन सभी को  सरकार व इन वर्गों के प्रतिनिधियों को जनता के साथ मिलकर यह काम करने होंगे। उन्होंने कहा कि आलोचना लोकतंत्र की शक्ति है लेकिन यह भी समझना जरूरी है कि आपसी सहयोग से ही काम होता है जनता व सरकार दोनों ही एक होते हैं।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You