मोदी ‘चायवाला’ के सामने सपा का ‘पानवाला’

  • मोदी ‘चायवाला’ के सामने सपा का ‘पानवाला’
You Are HereUttar Pradesh
Monday, March 31, 2014-4:07 PM

वाराणसी: भाजपा अपने प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी के ‘चाय वाले’ की पृष्ठिभूमि पर ‘चाय पर चर्चा’ आयोजनों के जरिए मतदाताओं को जोडऩे में लगी है। वाराणसी में उनके मुकाबले उतरे सपा उम्मीदवार कैलाश चौरसिया लोगों को उनके परिवारिक पेशे ‘पान वाले’ को भुनाने में लग गए हैं। चौरसिया कहते हैं कि मोदी यदि कभी ‘चाय’ बेचते रहे हैं तो वह अपनी ‘चाय वाले’ की पृष्ठिभूमि को भुना रहे हैं। हमारे पुरखे तो ‘पान’ बेचने के धंधे में रहे है और उसी तर्ज पर हम ‘पान वाला’ अभियान पर निकल पड़े हैं।

उत्तर प्रदेश सरकार में बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री चौरसिया ने ‘भाषा’ से बातचीत में कहा, ‘‘मैंने भी बहुत सालों तक पान बेचा है और पान बेचना तो हमारा पुश्तैनी व्यवसाय है।’’ उन्होंने कहा कि मोदी जहां एक तरफ लोगों से ‘चाय पर चर्चा’ कार्यक्रम में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए संवाद कर रहे है। उनकी कोशिश अधिक से अधिक पान वालों से सीधे संवाद स्थापित करने की है। इसलिए भी कि इसमें निजत्व का अहसास होता है।

चौरसिया ने कहा, ‘‘मैं मोदी की तरह हवा-हवाई में भरोसा नहीं करता, जो भारी धनराशि खर्च करके अपने प्रचार के लिए ‘चाय पर चर्चा’ कर रहे हैं। मेरा मकसद इस तरह के बेकार प्रचार पर धन खर्च करना नहीं है कि खुद को टीवी पर दिखाये और अखबारों में विज्ञापन दें। यह पैसा गरीबों की सहायता में, उनके इलाज में, शादी विवाह में सहायता के रूप में खर्च किया जाना बेहतर है।’’

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You