मंडियों में मोबाइल ग्रोसरी स्टोर पर ही स्वाइप मशीन, किसानों को नहीं मिली

  • मंडियों में मोबाइल ग्रोसरी स्टोर पर ही स्वाइप मशीन, किसानों को नहीं मिली
You Are HereChandigarh
Sunday, November 20, 2016-10:58 PM

चंडीगढ़, (आशीष): 500-1000 रुपए के नोट बंद होने और खुले पैसों की शॉर्टेज के चलते लोगों को दाल-चावल और सब्जियां लेने में परेशानी हो रही है। इस दिक्कत को दूर करने के लिए चंडीगढ़ प्रशासन ने शहर में अलग-अलग जगहों पर कैशलेस मंडियां लगाने का फैसला किया है। इनमे डेबिट या क्रेडिट कार्ड से सब्जियां और फल खरीद सकेंगे। प्रशासन की 6 मोबाइल वैन पर ही स्वाइप मशीन से कार्य हुए। मंडियों में किसानों को मशीन नहीं दी गई।

किसानों से सिर्फ अभी तक कागज कार्रवाई के रूप में आधार कार्ड और फार्म ही भरवाए गए हैं। मशीन कब मिलेंगी, इसकी जानकारी न तो किसानों के पास है और न ही प्रशासन के पास। खाद्य एवं अर्पित व उपभोक्ता मामले एवं माप तोल विभाग की ओर से अपनी मंडी मे मोबाइल ग्रोसरी स्टोरी खुले हैं, जिसमें लोगो को दाल-चावल, आटा व रसोई का सामान उपलब्ध कराने के लिए मोबाइल वैन पर क्रेडिट और डेबिट कार्ड से सामान खरीद रहे हैं। मंडी में सामान दोपहर से रात 10 बजे तक मिलता है।

इसका फायदा यह होगा कि लोगों को कम से कम सब्जियां और दाल-चावल खरीदने के लिए कैश की जरूरत नहीं पड़ेगी। फूड सप्लाई डिपार्टमैंट की तरफ शुरू की मोबाइल वैन से वनस्पति घी, मस्टर्ड ऑयल, आटा, दालें, चावल, चाय पत्ती व राशन का सारा सामान ले सकते है। रविवार को सैक्टर-34 की मंडी में लोगों ने सुविधा का लाभ उठाया। अधिकारियों का कहना है कि मोबाइल ग्रोसरी स्टोर में एक दिन में 8 हजार कैश और 5 हजार के करीब क्रेडिट और डेबिट कार्ड से सामान खरीदारी हो रही है। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You