भाजपा, कांग्रेस ने की राहुल पर हरसिमरत के बयानों की आलोचना

  • भाजपा, कांग्रेस ने की राहुल पर हरसिमरत के बयानों की आलोचना
You Are HereNational
Friday, October 25, 2013-3:47 PM

जालंधर: राजस्थान के चुरू में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के भावनात्मक भाषण पर पंजाब के बठिंडा से अकाली सांसद हरसिमरत कौर बादल के उस बयान की भाजपा और कांग्रेस ने कडी आलोचना की है जिसमें सांसद ने कहा था कि ‘गांधी परिवार ने जो किया उन्होंने उसका मूल्य चुकाया है।’ इसके साथ ही कांग्रेस ने उनसे इसके लिए माफी मांगने की मांग भी की है। पंजाब में सत्तारूढ़ गठबंधन में शामिल भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष लक्ष्मीकांता चावला ने भाषा से कहा, ‘‘हरसिमरत का बयान निंदाजनक है। ऐसे बयानों से देश और समाज की सुरक्षा में लगे सुरक्षा बलों का मनोबल गिरता है।’’

गौरतलब है कि मीडिया में आयी खबरों में हरसिमरत ने कहा था ‘‘तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने 1984 में क्या सोच कर स्वर्णमंदिर में सैन्य कारर्रवाई तथा सिखों के पवित्र स्थान को गिराने का निर्देश दिया था। वह क्या कर रही थीं जब वह दूसरे के पतियों और बेटों को मरवा रही थीं । उन्होंने जो किया उसी का मूल्य परिवार ने चुकाया है।’’ 

राहुल के भाषण के बाद हरसिमरत कौर बादल का यह बयान आया है। इससे पहले भाजपा नेता कहा, ‘‘आतंकवाद के दौरान पंजाब में सभी वर्गों के लगभग 30 हजार लोग मारे गए थे। इसके लिए कौन जिम्मेदार है और हरसिमरत को यह बताना चाहिए कि किसकी कीमत पर आतंकवादियों के हाथों प्रदेश में 30 हजार लोगों ने अपनी जान गंवाई।’’ पंजाब के पूर्ववर्ती बादल सरकार में कैबिनेट मंत्री की भूमिका निभा चुकीं लक्ष्मीकांता ने कहा, ‘‘पंजाब में आतंकवादियों को जिंदा शहीद कहा जा रहा है उनके परिजनों को सम्मानित किया जा रहा है। क्या हरसिमरत इसे उचित ठहरा रही हैं ?’’


 दूसरी ओर प्रदेश महिला कांग्रेस की अध्यक्ष डा मालती थापर ने कहा, ‘‘हरसिमरत एक महिला होकर भी कैसे ऐसा संवेदनहीन और गलत बयान दे सकती हैं। इंदिराजी ने कभी स्वर्णमंदिर गिराने के लिए नहीं कहा था । वह तो धार्मिक आस्था का महान केंद्र है। उनकी मंशा वहां छिपे देश को तोडने वालों को निकाल कर उस जगह की पवित्रता बरकरार रखने की थी।’’  मालती ने कहा, ‘‘1984 में जो कुछ हुआ वह समय की मांग थी। अगर ऐसा नहीं होता तो देश का विभाजन हो सकता था और हरसिमरत सांसद भी नहीं बन पाती और न ही पंजाब में उनकी पार्टी की सरकार बनती। देश में या पंजाब में लोकतांत्रिक व्यवस्था इंदिराजी के बलिदान के कारण ही कायम है। उन्हें तथ्यों की जानकारी लेकर बयानबाजी करनी चाहिए। हरसिमरत का बयान निंदनीय है।’’

कांग्रेस नेता ने यह भी कहा कि राहुल ने कभी नहीं कहा कि किसी व्यक्ति या धर्म के लोगों ने उनकी दादी ओर पिता की हत्या की । उन्होंने कहा था कि ‘नफरत’ ने उनकी दादी और पिता की जान ली है और उन्हें भी मार देंगे। प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता सुखपाल सिंह खैरा ने कहा, ‘‘हरसिमरत ने अपने बयान में हिंसा को उचित ठहराया है। उन्हें इसके लिए सार्वजनिक तौर पर माफी मांगनी चाहिए।’’ हालांकि, राजनीति के जानकार तथा समाजशास्त्री डा अजय शर्मा ने इसे चुनावी स्टंट कहा है।


 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You