को-ओपरेटिव बैंक हुए कंप्यूटराइज्ड

  • को-ओपरेटिव बैंक हुए कंप्यूटराइज्ड
You Are HereNational
Monday, December 16, 2013-7:16 PM

जालंधर: (बाली) नेशनल बैंको की तर्ज पर अपने ग्राहको को बहतर सुविधाएं देने के लिए अब को-ओपरेटिव बैंक भी कंप्यूटराइज्ड हो गए हैं यह जानकारी जालंधर सिविल लाइन स्थित को-ओपरेटिव बैंक में पब्लिक मीटिंग के दौरान चेयरमैन गुरप्रीत कौर ढिल्लों ने दी।

आई हुई पब्लिक को सम्बोधित करते हुए गुरप्रीत कौर ने बताया कि पंजाब भर में सभी को-ओपरेटिव बैंक में अब आई. ऍफ़. एस. सी कोड की सुविधा शुरू कर दी गई है इसके साथ-साथ जिन आधार कार्ड होल्डर को एलपीजी में सब्सिडी मिल रही है उनकी सब्सिडी सीधी उनके को-ओपरेटिव बैंक अकाउंट में आ जाया करेगी इतना ही नहीं वजीफा होल्डर भी अपना वजीफा बैंक में से ले सकते हैं।

इस दौरान ब्रांच मैनेजर अमर चंद ने पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए कहा काफी लंबे समय से चली आ रही लोगो की मांगों को पूरा करते हुए पंजाब सरकार ने यह पहल की है। उन्होंने कहा बैंक खाता धारकों के लिए कई सहूलतें दी जा रही हैं जिनमे एक्सीडेंट बीमा के लिए विशेष सहूलतें है, यदि किसी खाता धारक के बैंक अकाउंट में तीन हजार रूपए हैं और उसकी किसी दुर्घटना में मौत हो जाती है तो उसके परिवार को तीन लाख और यदि उसके अकाउंट में पांच हजार रूपए हैं तो उसके परिवार को पांच लाख रूपए बिमा के तौर पर दिए जाएंगें।

इस मीटिंग के दौरान उन्होंने अधिक से अधिक लोगों को बैंक के साथ जुड़ने की अपील की। इस दौरान लगभग 50 लोगों ने शिरकत की। मीटिंग में आए अवतार सिंह और खैरा माजरा के सरपंच सुरेन्द्र सिंह ने कहा इस मीटिंग में आकर हमें बहुत अच्छा लगा और आछा करते हैं कि इस तरह की मीटिंग दौबारा जल्द होगी। पब्लिक मीटिंग में खास तौर पर को-ओपरेटिव बैंक एम्प्लॉई फेडरेशन के पंजाब प्रधान गुरनेक सिंह ढिल्लों, गुलजार सिंह खजान सिंह आदि गणमान्य लोग उपस्थित थे।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You