पूर्व हॉकी खिलाडियों ने कहा, ध्यानचंद को भी दो ‘भारत रत्न’

  • पूर्व हॉकी खिलाडियों ने कहा, ध्यानचंद को भी दो ‘भारत रत्न’
You Are HereSports
Tuesday, November 19, 2013-1:06 PM

जालंधर: महान हॉकी खिलाडी मेजर ध्यानचंद को ‘भारत रत्न’ देने की मांग करते हुए पूर्व हॉकी खिलाडियों ने कहा है कि यह सम्मान उन्हें नहीं दिया जाना उस महान खिलाडी का अपमान है जिसने देश को गुलामी के दौर में खेल के क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय पहचान दिलाई थी। हाल ही में क्रिकेट से सन्यास लेने वाले चैम्पियन क्रिकेटर तेंदुलकर को उनके 200 वें और आखिरी टेस्ट के तुरंत बाद देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान दिया गया।

भारत रत्न पर मची घमासान के बीच पूर्व ओलंपियनों ने कहा है कि चाहे सचिन को भारत रत्न के साथ ‘खेल मंत्री’ बना दो लेकिन पहले यह पुरस्कार ध्यानचंद को दिया जाना चाहिए था जिसने मुल्क के खाते में कई स्वर्ण पदक दिलाए हैं। भारत के पूर्व हॉकी कप्तान परगट सिंह ने इस बारे में कहा, ‘‘मेजर ध्यानचंद का खेल के क्षेत्र में बडा योगदान है। इस महान खिलाडी ने उस वक्त मुल्क को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेल के क्षेत्र में पहचान दिलाई थी जब हमारा देश गुलाम था। इसलिए खेल के क्षेत्र में इस सम्मान पर पहला हक उनका बनता है।’’

खिलाडी से विधायक बने परगट ने कहा, ‘‘सचिन को यह सम्मान दिएजाने का मैं विरोध नहीं कर रहा हूं। वह इसके हकदार हैं लेकिन मेजर का योगदान भी कम नहीं है इसलिए उन्हें यह सम्मान दिया जाना चाहिए। चाहे तो सचिन के साथ साथ ध्यानचंद का नाम भी सरकार को घोषित कर देना चाहिए था क्योंकि इस महान खिलाडी का योगदान किसी अन्य से कम नहीं है।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You