पाक के साथ हॉकी को लेकर सभी मुद्दे सुलझा लिए

  • पाक के साथ हॉकी को लेकर सभी मुद्दे सुलझा लिए
You Are HereHockey
Wednesday, November 16, 2016-9:59 AM

नई दिल्ली: अंतर्राष्ट्रीय हॉकी महासंघ (एफ.आई.एच.) के नए अध्यक्ष बने भारत के डा. नरेंद्र ध्रुव बत्रा ने कहा कि उन्होंने चिर-प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के साथ हॉकी को लेकर सभी मुद्दे सुलझा लिए हैं और पाकिस्तान की टीम लखनऊ में होने वाले जूनियर विश्वकप में हिस्सा लेने भारत आ रही है। बत्रा ने एफ.आई.एच. अध्यक्ष बनने को अपने लिए गौरव की बात बताते हुए कहा कि एफ.आई.एच. का मुख्यालय लुसाने में रहेगा और वह दिल्ली से अपने कामों का संचालन करेंगे। वह साल में 40-45 दिन एफ.आई.एच. के कामों से देश से बाहर रहेंगे।

बत्रा ने एफ.आई.एच. का अध्यक्ष बनने के बाद अपने पहले संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘हॉकी इंडिया ने दुबई में एफ.आई.एच. की कांग्रेस से इतर पाकिस्तानी हॉकी महासंघ से सभी मुद्दों पर साहसिक बातचीत की और चैम्पियंस ट्राफी सहित तमाम मुद्दों को सुलझा लिया।’’ पाकिस्तानी टीम की सुरक्षा के मुद्दे पर बत्रा ने कहा कि यह हॉकी इंडिया की जिम्मेदारी है कि वह पाकिस्तानी टीम को पूरी सुरक्षा प्रदान करे। यह एफ.आई.एच. टूर्नामैंट है और हॉकी इंडिया किसी टीम को किसी बात से इंकार नहीं कर सकती है।

एफ.आई.एच. अध्यक्ष ने कहा कि जहां तक राजनीतिक हालात की बात है उसमें कोई भी फैसला या तो पाकिस्तानी सरकार को या फिर भारत सरकार को लेना है। सरकार कोई भी फैसला लेती है तो हम उसका हिस्सा रहेंगे। यदि पाकिस्तानी टीम टूर्नामैंट में हिस्सा लेने से इंकार भी करती है तो भी हमारे पास विकल्प रहेंगे, लेकिन पाकिस्तान को समय रहते इसकी जानकारी देनी होगी।

हॉकी को वैश्विक स्तर पर लोकप्रिय और ग्लोबल बनाना लक्ष्य
बत्रा ने एफ.आई.एच. अध्यक्ष बनने के बाद अपनी जिम्मेदारियों और नई योजनाओं के बारे में कहा, ‘‘मेरा सबसे बड़ा लक्ष्य हॉकी को वैश्विक स्तर पर लोकप्रिय और ग्लोबल बनाना है। इसके लिए हम 2019 से 2028 तक 10 वर्ष की एक योजना लागू करने जा रहे हैं जिसे हॉकी क्रांति कहा जा सकता है। इससे नई पीढ़ी को हॉकी स्टिक उठाने और मैदान में उतरने की प्रेरणा मिलेगी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘इस योजना के तहत होम एंड अवे आधार पर 8 से 9 टीमों के बीच एक कार्यक्रम शुरू किया जाएगा जिसमें देश एक-दूसरे के यहां जाकर मैच खेलेंगे। मसलन यदि 9 टीमें होती हैं तो भारत 8 टीमों की मेजबानी करेगा और 8 देशों में जाकर खेलेगा। इसमें पाकिस्तान भी शामिल होगा। यह एक ओलिम्पिक क्वालिफाइंग टूर्नामैंट की तरह होगा जिसमें शीर्ष 2 टीमें ओलिम्पिक के लिए क्वालीफाई करेंगी।’’


पाकिस्तान एफ.आई.एच. टूर्नामैंट में  खेलने से इंकार नहीं कर सकता
बत्रा ने बताया कि दुबई में कांग्रेस के दौरान कई देशों नेे पाकिस्तान में सुरक्षा को लेकर खेलने पर आपत्ति जताई थी जिसके बाद यह फैसला किया गया कि पाकिस्तान के लिए तटस्थ स्थल का विकल्प रखा जाए जहां दूसरी टीमें पाकिस्तान से खेल सकें। अब इस बात पर पाकिस्तान को तैयार होना है। लेकिन यह एफ.आई.एच. टूर्नामैंट है और पाकिस्तान इससे इंकार नहीं कर सकता क्योंकि यदि आप इंकार करते हैं तो फिर आपको ओलिम्पिक और विश्वकप छोडऩे पड़ेंगे।

हाकी इंडिया पर मेरा रिमोट कंट्रोल नहीं रहेगा
बत्रा ने स्पष्ट कर दिया है कि हाकी इंडिया पर उनका कोई रिमोट कंट्रोल नहीं रहेगा। बत्रा ने कहा, ‘‘एफ.आई.एच. अध्यक्ष बनने से पहले मेरे पास हाकी इंडिया अध्यक्ष, एच.आई.एल. अध्यक्ष, जम्मू-कश्मीर हाकी संघ अध्यक्ष, एशियाई हाकी परिसंघ उपाध्यक्ष और भारतीय ओलिम्पिक संघ के सह उपाध्यक्ष के 5 पद थे जिनमें से मुझे हाकी इंडिया, एच.आई.एल., जम्मू-कश्मीर और एशियाई हाकी के अपने 4 पद छोडऩे होंगे।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You