इन दिनों हजामत और मालिश करवाने से कम होती है उम्र और धन

  • इन दिनों हजामत और मालिश करवाने से कम होती है उम्र और धन
You Are HereThe planets
Monday, October 24, 2016-8:41 AM

क्षौर कर्म : शुभाशुभ दिन
गर्गादि आचार्यों के अनुसार रविवार, मंगलवार एवं शनिवार को क्षौर कर्म (हजामत) कर्म करवाने से आयु का क्षय होता है। सोमवार, बुधवार, वीरवार और शुक्रवार को क्षौर कर्म करवाना शुभ होता है। 


मतांतर से एक पुत्र संतान वाले गृहस्थी को सोमवार के दिन तथा विद्या एवं धनाकांक्षी गृहस्थी को वीरवार के दिन क्षौर नहीं करना चाहिए। 


इसके अतिरिक्त पर्व वाले दिन जन्मदिन, चतुर्थी, नवमी और चतुर्दशी आदि रिक्ता तिथियों में व्रत के दिन, अमावस्या, पूर्णिमा, संक्रांति, श्राद्ध के दिन, भद्रा और व्यातिपात योग में तथा भोजन करने के बाद, देश-प्रदेश जाने के समय में शुभाकांक्षी क्षौर कर्म न कराएं।


मालिश करना
बहुत से लोग नहाने से पूर्व शरीर की मालिश करते हैं। शास्त्रों के अनुसार-
तैलाभ्यांगे रवौ ताप: सोमे शोभा कुजे मृति:।
बुधेधनं गुरौ हानि: शुझे दु:ख शनौ सुखम्॥


अर्थ- रविवार को तेल मालिश से ताप यानी गर्मी संबंधी रोग, सोमवार को शरीर के सौन्दर्य में वृद्धि, मंगलवार को मृत्यु भय, बुधवार को धन की प्राप्ति, गुरुवार को हानि, शुक्रवार को दु:ख और शनिवार को सुख मिलता है। 


शास्त्रों के अनुसार रविवार का दिन सूर्य से संबंधित है। सूर्य से गर्मी उत्पन्न होती है इसलिए इस दिन शरीर में पित्त अन्य दिनों की अपेक्षा अधिक होना स्वाभाविक है। तेल से मालिश करने से भी गर्मी उत्पन्न होती है।


रविवार, मंगलवार, वीरवार तथा शुक्रवार को शरीर पर तेल लगाना शुभ नहीं माना जाता। 


निर्णयसिंधु के अनुसार रविवार को तेल लगाने से ताप, मंगलवार को आयु क्षीणता, वीरवार से धन हानि, शुक्रवार को तेल लगाने से दुख होता है। सोमवार, बुधवार तथा शनिवार को तेल लगाना शुभ होता है। 


प्रतिदिन तेल लगाने वाले को दोष नहीं लगता। (अभ्यङ्गके चैव वासिते नैव दूषणम।।) 
पूर्णिमा, संक्रांति, श्राद्ध के दिन, भद्रा और व्यातिपात योग में तथा भोजन करने के बाद, देश-प्रदेश जाने के समय में शुभाकांक्षी क्षौर कर्म न कराएं।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You