Astrology: 5 ग्रहों के केंद्र में आने से मचेगा धमाल, जानें अपनी राशि का हाल

Edited By Niyati Bhandari,Updated: 21 Jul, 2022 08:31 AM

astrology

ज्योतिष में नौ ग्रह होते हैं और समय-समय पर इन ग्रहों के कंबीनेशन शुभ और अशुभ फल देते हैं। जब ग्रहों के शुभ कंबीनेशन बनते हैं तो कई राशियों की किस्मत चमक जाती है और जब ग्रहों के अशुभ कंबीनेशन

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Astrology: ज्योतिष में नौ ग्रह होते हैं और समय-समय पर इन ग्रहों के कंबीनेशन शुभ और अशुभ फल देते हैं। जब ग्रहों के शुभ कंबीनेशन बनते हैं तो कई राशियों की किस्मत चमक जाती है और जब ग्रहों के अशुभ कंबीनेशन बनते हैं तो कई राशियों की लाइफ में थोड़ा उथल-पुथल भी मचा देते हैं। मौजूदा समय में जो कालपुरुष की कुंडली बनी है, उनमें परस्पर ग्रहों की दृष्टि और ग्रहों का कंबीनेशन 4 राशियों के लिए बेहद अशुभ रहने वाला है यानि 4 राशियों को बेहद सावधान रहना होगा। खासतौर पर 4 राशियों की मैरिड लाइफ प्रभावित हो सकती है। प्रेम संबंध प्रभावित हो सकते हैं । रिश्तो में खटास आ सकती है।

इस समय मेष राशि में मंगल और राहु का कंबीनेशन बना हुआ है, जिससे अंगारक दोष बना है। मंगल और राहु के सामने केतु बैठे हैं जो पाप ग्रह हैं। सूर्य 16 जुलाई को कर्क राशि में आ चुके हैं और शनिदेव 12 जुलाई को मकर राशि में आ चुके हैं । इस तरह शनि और सूर्य आमने-सामने बैठकर समसप्तक योग बना रहे हैं। सूर्य और शनि की आपस में प्रतिद्वंद्विता है। सूर्य जिस राशि में उच्च फल देते हैं, उस राशि में शनि नीच हो जाते हैं। वहीं जिस राशि में शनि उच्च फल प्रदान करते हैं, उस राशि में सूर्य नीच हो जाते हैं। इस तरह की दोनों ग्रहों में आपसी प्रतिद्वंद्विता है । अब 1 महीने के लिए सूर्य और शनि एक दूसरे के 7वें घर में हैं और समसप्तक योग बना रहे हैं। ज्योतिष में इस योग को शुभ नहीं माना जाता।

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं। अपनी जन्म तिथि अपने नाम, जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर व्हाट्सएप करें

दूसरा काल पुरुष की कुंडली में मंगल पर शनि की दृष्टि पड़ रही है और शनि पर मंगल की दृष्टि पड़ रही है। इन दोनों की दृष्टि द्वंद योग का निर्माण करती है। ज्योतिष में यह योग भी शुभ नहीं होता। शनि एक पाप ग्रह है तो मंगल एक क्रूर ग्रह है। जब दोनों की एक दूसरे पर दृष्टि या किसी तरह का संबंध बनता है तो इनके अशुभ फलों में वृद्धि हो जाती है। जीवन में संघर्ष बढ़ जाता है।
इस समय जो ग्रहों का कंबीनेशन है उनमें 5 ग्रह केंद्र में आ गए हैं अपनी युति और दृष्टि से पहले, चौथे, सातवें और दसवें घर को प्रभावित कर रहे हैं। इस तरह मेष राशि, कर्क राशि, तुला राशि और मकर राशि सीधे तौर पर प्रभावित हो रही हैं और इन चारों राशियों को आने वाले दिनों में बेहद सावधान रहना होगा। सूर्य-शनि का समसप्तक योग, राहु-मंगल का अंगारक योग, शनि-मंगल का द्वंद दोष मेष राशि, कर्क राशि, तुला राशि और मकर राशि की जिंदगी में थोड़ा उथल-पुथल मचाने वाला होगा। इन राशियों के जो लोग रिलेशनशिप में हैं, उनके संबंधों में खटास आ सकती है।  प्रेम संबंध प्रभावित हो सकते हैं। विवाहित संबंधों में भी तल्खी बढ़ सकती है। गलतफहमियां हो सकती हैं। अगर पार्टनरशिप में बिजनेस कर रहे हैं तो खास तौर पर सावधान रहना होगा। इन्वेस्टमेंट भी सोच-समझकर करनी होगी अन्यथा धोखा भी हो सकता है। स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है। तबीयत थोड़ा गुस्सैल हो सकती है। कैरियर में उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकते हैं।

गुरमीत बेदी
gurmitbedi@gmail.com

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!