अच्छे कामों में लगाएं अनमोल समय, सार्थक होगा जीवन

Edited By Jyoti,Updated: 08 Aug, 2022 11:11 AM

motivational concept in hindi

एक दिन एक व्यक्ति संत के पास गया और बोला, ‘‘महाराज! मुझे ऐसा उपदेश दीजिए, जो जिंदगी भर याद रहे क्योंकि मेरे पास इतना समय नहीं है, कि रोज आपके पास आऊं और घंटों बैठकर आपका उपदेश सुनूं।’’

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
एक दिन एक व्यक्ति संत के पास गया और बोला, ‘‘महाराज! मुझे ऐसा उपदेश दीजिए, जो जिंदगी भर याद रहे क्योंकि मेरे पास इतना समय नहीं है, कि रोज आपके पास आऊं और घंटों बैठकर आपका उपदेश सुनूं।’’

संत ने कहा, ‘‘ठीक है, तो चलो मेरे साथ। संत उस व्यक्ति को श्मशान ले गए। वह व्यक्ति घबरा रहा था। उसने कहा, आप मुझे कहां ले आए हैं?’’

संत ने कहा, ‘‘तुमने कहा था कि कोई ऐसा उपदेश दूं कि तुम्हें मेरे पास बार-बार आने की जरूरत न हो, तो यहां उस प्रश्र का उत्तर तुम्हें मिल जाएगा।’’

इसके बाद वह दोनों एक पेड़ के नीचे बैठ गए। तभी उन्होंने देखा-कुछ लोग अरबपति व्यक्ति का शव लेकर श्मशान में पहुंचे। दूसरी ओर से कुछ लोग एक दरिद्र का शव लेकर पहुंचे। दोनों की चिताएं बनाई गईं और उन्हें अग्रि को समर्पित कर दिया गया।
PunjabKesari

साधु ने उस व्यक्ति को अगले दिन आने के लिए कहकर घर जाने को कहा। वह व्यक्ति अगले दिन श्मशान भूमि में पहुंचा। साधु महाराज पहले से ही वहां उपस्थित थे। उन्होंने एक मुट्ठी में सेठ की और दूसरी मुट्ठी में दरिद्र की चिता की थोड़ी-थोड़ी राख ली, फिर उस आदमी को वह राख दिखाते हुए बोले, इन दोनों मुट्ठियों में ही तुम्हारे प्रश्र का उत्तर छुपा हुआ है। 

अमीर हो या गरीब, अंत में दोनों एक समान हो जाते हैं। अर्थात एक दिन मिट्टी में मिल जाते हैं। दोनों की मिट्टी में कोई अंतर नहीं रह जाता। इसलिए अपना अनमोल समय अच्छे कामों में लगाना चाहिए ताकि अंत में पछताना न पड़े। जीवन की ऐसी सार्थक परिभाषा सुनकर वह व्यक्ति धन्य हो गया। आखिर में उसने साधु के चरण स्पर्श किए और संतुष्ट होकर अपने घर चला गया।
 

Trending Topics

India

South Africa

Match will be start at 02 Oct,2022 08:30 PM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!