अपनी कमाई से राष्ट्रीय ध्वज खरीद कर फहराएं नागरिक : शिवराज सिंह

Edited By rajesh kumar,Updated: 13 Aug, 2022 05:53 PM

citizens should buy the national flag with their earnings shivraj singh

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि "विजयी विश्व तिरंगा प्यारा, झंडा ऊँचा रहे हमारा, इसकी शान न जाने पाए, चाहे जान भले ही जाए" यह केवल गीत नहीं आजादी की लड़ाई का मंत्र था।

भोपाल: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि "विजयी विश्व तिरंगा प्यारा, झंडा ऊँचा रहे हमारा, इसकी शान न जाने पाए, चाहे जान भले ही जाए" यह केवल गीत नहीं आजादी की लड़ाई का मंत्र था। भारत सांस्कृतिक रूप से सदा से ही एक रहा है। हमारे देश का गौरवशाली इतिहास रहा। भारत की समृद्धि की चर्चा पूरी दुनिया में होती थी। इसी के परिणामस्वरूप पुर्तगाली, डच, अंग्रेज आदि कई विदेशी शक्तियाँ भारत आईं और हमें आपसी फूट के कारण गुलाम होना पड़ा। अंग्रेजों के विरूद्ध भारत में वर्ष 1761 में संयासी विद्रोह और फकीर विद्रोह से संघर्ष आरंभ हुआ। पहला स्वतंत्रता संग्राम 1857 में अमर शहीद मंगल पांडे ने आरंभ किया। स्वतंत्रता के लिए चले लंबे संघर्ष में अनेकों शहीदों के बलिदान के परिणामस्वरूप हमारा देश स्वतंत्र हुआ। स्वतंत्रता की इस लड़ाई में हमारे ध्वज का बहुत महत्व रहा।

मुख्यमंत्री चौहान भोपाल के मॉडल स्कूल में "शिवराज मामा की पाठशाला" को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कक्षा में उपस्थित विद्यार्थियों को "हर घर तिरंगा" अभियान, स्वतंत्रता संग्राम, राष्ट्रीय ध्वज की विकास गाथा और तिरंगा फहराने के नियमों की जानकारी दी। माध्यमिक शिक्षा मंडल की अध्यक्ष श्रीमती वीरा राणा, प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती रश्मि अरूण शमी, आयुक्त लोक शिक्षण श्री अभय वर्मा, संचालक राज्य शिक्षा केंद्र श्री धनराजू एस उपस्थित थे।

उन्होंने दीप प्रज्ज्‍वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री चौहान ने मॉडल स्कूल भोपाल द्वारा "हर घर तिरंगा" अभियान के लिए विकसित लीफलेट का विमोचन भी किया। उन्होंने कहा विद्यार्थियों से कहा कि अब देश के लिए मरने की नहीं, जीने की जरूरत है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्वतंत्रता संग्राम की संक्षिप्त जानकारी देते हुए महात्मा गांधी, बालगंगाधर तिलक, शहीदे आजम भगत सिंह, वीर सावरकर, चाफेकर बंधु, चंद्रशेखर आजाद, पंडित रामप्रसाद बिस्मिल, नेता जी सुभाष चंद्र बोस के योगदान और जलिया वाला बाग सहित सविनय अवज्ञा आन्दोलन आदि पर प्रकाश डाला।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी ने भारत की स्वतंत्रता के 75वें वर्ष को उत्साह पूर्वक मनाने के लिए लोगों को तिरंगा घर लाने और इसे फहराने के लिए प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से "हर घर तिरंगा" अभियान आरंभ किया है। इसका उद्देश्य लोगों के दिलों में देश भक्ति की भावना जगाना है। उन्होंने कहा कि हम अपनी कमाई से राष्ट्रीय ध्वज खरीद कर फहराएँ। उन्होंने शासकीय बालक हाई स्कूल सोहागपुर शहडोल के श्री देव बैगा, शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बॉयां जिला सीहोर की कुमारी सलोनी सोनी, मॉडल स्कूल भोपाल के श्री अनुज परमार तथा कुमारी सोनिया मीणा के प्रश्नों का समाधान भी किया।

सी.एम ने 6 प्वाईंट्स में समझाई राष्ट्रीय ध्वज की विकास गाथा

इस दौरान मुख्यमंत्री ने रूचि कर तरीके से 6 प्वाईंट्स के साथ राष्ट्रीय ध्वज की विकास गाथा पर प्रकाश डाला।
• स्वामी विवेकानंद की आयरिश शिष्या मार्गरेट नोबल ने वर्ष 1905 में कोलकाता में निवेदिता कन्या विद्यालय की छात्राओं के साथ एक राष्ट्रीय ध्वज तैयार किया। इस ध्वज में वज्र बनाया गया था, जो शक्ति का प्रतीक था। इसके केन्द्र में श्वेत कमल बनाया गया था, जो पवित्रता का प्रतीक था‍।
• भारत का पहला राष्ट्रीय ध्वज 7 अगस्त 1906 को कोलकाता में पारसी बागान स्क्वायर ग्रीन पार्क में फहराया गया था। इसमें लाल, पीले और हरे रंग की तीन पट्टियाँ थी, जिनके बीच में वंदे-मातरम् लिखा था।
• मैडम भीकाजी कामा और उनके सहयोगी क्रांतिकारियों ने अगस्त 1907 में, जर्मनी के शहर स्टुटगार्ट में दूसरी सोशलिस्ट कांग्रेस के अधिवेशन स्थल पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया। यह विदेशी भूमि पर फहराया जाने वाला पहला भारतीय ध्वज था। इसे ‘भारत की स्वतंत्रता का ध्वज’ नाम दिया गया।
• भारत में स्वशासन की स्थापना के उद्देश्य से चलाए जाने वाले होमरूल आंदोलन के प्रमुख भाग के रूप में वर्ष 1917 में एक नया झंडा अपनाया गया। इसमें 5 लाल और 5 हरी आड़ी धारियाँ और सप्तऋषि के आकार में सात तारे थे।
• अप्रैल 1921 में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने पिंगली वेंकय्या को चरखे के साथ एक ध्वज डिजाइन करने को कहा। इस ध्वज में बलिदान के प्रतीक लाल रंग, आशा के प्रतिक हरे रंग के साथ पवित्रता के प्रतीक सफेद रंग को भी जोड़ा गया और इसमें प्रगति का प्रतीक चरखा इसके केन्द्र में जोड़ा गया। यह ध्वज कराची में वर्ष 1931 में हुए कांग्रेस अधिवेशन में पेश किया गया।
• 22 जुलाई 1947 को संविधान सभा ने वर्तमान स्वरूप में विद्यामान स्वतंत्र भारत के राष्ट्रीय ध्वज को अपनाया। इसके शीर्ष पर केसरिया रंग है जो शक्ति और साहस का प्रतीक है। इसके मध्य में सफेद रंग है, जो शांति और सत्य का प्रतीक है। सबसे नीचे हरा रंग है, जो भूमि की उर्वरता, विकास और शुभता प्रदर्शित करता है। ध्वज के वर्तमान रूप के केन्द्र में चौबीस तीलियों वाला चक्र है। इस चक्र का उद्देश्य यह दिखाना है कि गति में ही जीवन है। 

Related Story

Trending Topics

India

Australia

Match will be start at 25 Sep,2022 08:30 PM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!