भारत-ऑस्ट्रेलिया व्यापार वार्ता में प्रगति से PM मोदी व मॉरिसन खुश, यूक्रेन युद्ध पर भी दिया बड़ा बयान

Edited By Tanuja, Updated: 23 Mar, 2022 02:01 PM

pm modi morrison welcome progress in india aus trade negotiations

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और उनके ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष स्कॉट मॉरिसन ने दूसरे भारत-ऑस्ट्रेलिया आभासी शिखर सम्मेलन के दौरान व्यापक...

इंटरनेशनल डेस्कः  प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और उनके ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष स्कॉट मॉरिसन ने दूसरे भारत-ऑस्ट्रेलिया आभासी शिखर सम्मेलन के दौरान व्यापक आर्थिक सहयोग समझौते (CECA) वार्ता में हुई उल्लेखनीय प्रगति का स्वागत किया व इस पर संतुष्टि जताई। एक संयुक्त बयान में दोनों नेताओं ने   अंतरिम CECA को जल्द से जल्द समाप्त करने और व्यापार और निवेश संबंधों को बढ़ाने के अलावा भारत-ऑस्ट्रेलिया व्यापक रणनीतिक साझेदारी (सीएसपी) को गहरा करने के लिए वर्ष के अंत तक एक महत्वाकांक्षी पूर्ण CECA की दिशा में काम करने के लिए  प्रतिबद्धता दोहराई।  दोनों नेताओं ने भारत ऑस्ट्रेलिया डबल टैक्सेशन अवॉइडेंस एग्रीमेंट (DTAA) के तहत भारतीय फर्मों की अपतटीय आय के कराधान के मुद्दे के शीघ्र समाधान के महत्व पर भी जोर दिया ।

 

सम्मेलन के दूसरे दिन जारी साझा बयान में दोनों देशों ने यूक्रेन में युद्ध को तत्काल रोकने की जरूरत पर जोर दिया। उनका इशारा चीन की ओर था। दोनों देशों के शीर्ष नेताओं ने स्पष्ट किया कि दक्षिण चीन सागर में प्रभावी आचार संहिता लागू होनी चाहिए। पीएम मोदी के साथ वर्चुअल समिट के दौरान ऑस्ट्रेलियाई पीएम स्कॉट मॉरिसन ने कहा, इस बात पर विशेष ध्यान देना होगा कि यूक्रेन जैसे हालात हिंद प्रशांत क्षेत्र में कभी पैदा न हों। यूक्रेन में लोगों की मौत के लिए रूस को जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए।

 
साझा बयान में दोनों देशों ने इस साल के अंत तक कारोबारी करार को अंतिम रूप देने का लक्ष्य निर्धारित किया है। बयान में कहा गया, व्यापक आर्थिक सहयोग समझौते (सीईसीए) के लिए बातचीत में काफी प्रगति हुई है, जल्द ही इसे अंतिम रूप दिया जाएगा। जल्द से जल्द एक अंतरिम आर्थिक सौदा होगा। दोनों देश व्यापार और निवेश संबंधों को बढ़ाने के लिए वर्ष के अंत तक एक महत्वाकांक्षी, पूर्ण सीईसीए की दिशा में काम करेंगे।

 

भारत में  28 करोड़ डॉलर का निवेश करेगा ऑस्ट्रेलिया
ऑस्ट्रेलिया आर्थिक साझेदारी को और मजबूती देने के लिए भारत में 28 करोड़ अमेरिकी डॉलर का निवेश करेगा। इससे दोनों देशों के बीच व्यापारिक संबंध नए स्तर पर पहुंचेंगे और रोजगार सृजन में सहयोग होगा। 2020 में भारत ऑस्ट्रेलिया का सातवां सबसे बड़ा कारोबारी साझेदार था। ऑस्ट्रेलियाई सरकार के मंगलवार को जारी बयान के मुताबिक भारत के प्रमुख नीति और वित्त संस्थानों के साथ संबंधों को मजबूत करने के लिए 1.66 करोड़ अमरीकी डालर निवेश किया जाएगा। 89 लाख डॉलर भारत में मौजूद ऑस्ट्रेलियाई कारोबार में लगाया जाएगा। 1.72 करोड़ अमेरिकी डॉलर से ऑस्ट्रेलिया-भारत सामरिक अनुसंधान कोष का विस्तार किया जाएगा।

 

इससे नवाचार और प्रौद्योगिकी की चुनौतियों का सामना किया जाएगा। सरकारी बयान के मुताबिक 3.57 करोड़ डॉलर का निवेश ग्रीन स्टील पार्टनरशिप, क्रिटिकल मिनरल रिसर्च पार्टनरशिप और अंतरराष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी में सहयोग बढ़ाने के लिए किया जाएगा। अंतरिक्ष के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने के लिए ऑस्ट्रेलिया भारत में 2.52 करोड़ डॉलर का निवेश करेगा। वहीं भारतीय लोगों के साथ संबंध मजबूत करने, सार्वजनिक चर्चाओं और नीतिगत संवाद को बढ़ावा देने और भारतीय प्रवासियों को शामिल करने के लिए 2.81 करोड़ डॉलर से ऑस्ट्रेलिया-भारत संबंधों का एक केंद्र भी स्थापित किया जाएगा।

Related Story

Trending Topics

Indian Premier League
Kolkata Knight Riders

Lucknow Super Giants

Match will be start at 18 May,2022 07:30 PM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!