कमजोर निवेश, वैश्विक चिंता से 2013-14 में वृद्धि दर कमजोर रहेगी: रिजर्व बैंक

  • कमजोर निवेश, वैश्विक चिंता से 2013-14 में वृद्धि दर कमजोर रहेगी: रिजर्व बैंक
You Are HereBusiness
Friday, August 23, 2013-4:13 AM

मुंबई: भारतीय रिजर्व बैंक ने आज कहा कि कमजोर निवेश परिदृश्य तथा वैश्विक वृद्धि में नरमी के रख के बीच देश की आर्थिक वृद्धि दर 2013-14 में कमजोर रहने का अंदेशा है।

हालांकि इसके साथ ही केंद्रीय बैंक ने कहा कि बुनियादी सुधारों से देश की वृद्धि की संभावनाएं सुधर सकती हैं। जुलाई में अपनी पिछली मौद्रिक नीति समीक्षा में केंद्रीय बैंक ने चालू वित्त वर्ष के लिए अपनी आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान को घटाकर 5.5 फीसद कर दिया था। इससे पहले रिजर्व बैंक ने मई में वृद्धि दर 5.7 फीसद रहने का अनुमान लगाया था।

रिजर्व बैंक की सालाना रिपोर्ट में कहा गया है कि औद्योगिक गतिविधियों में कमजोरी तथा वैश्विक वृद्धि दर में सुस्ती से आर्थिक वृद्धि दर कमजोर रहेगी। हालांकि इसके साथ रिपोर्ट में कहा गया है कि इस सालाना सामान्य मानसून की वजह से कृषि क्षेत्र का प्रदर्शन अच्छा रहेगा और इससे औद्योगिक वस्तुओं और सेवाओं के लिए ग्रामीण मांग बढ़ेगी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You