पवार ने जीएम फसलों का समर्थन किया

  • पवार ने जीएम फसलों का समर्थन किया
You Are HereBusiness
Saturday, October 26, 2013-2:37 PM

मुंबई: आनुवांशिक रूप से संवद्र्धित (जीएम) फसलों का समर्थन करते हुए कृषि मंत्री शरद पवार ने कहा है कि किसान जीएम कपास को तरजीह देते हैं क्योंकि इससे उन्हें अधिक उत्पादन मिलता है और यह बीमारियों से लडऩे में ज्यादा सक्षम है। उन्होंने ऐसी फसलों के परीक्षण पर ‘मनमाना प्रतिबंध’ का विरोध किया।

पवार ने कहा, ‘‘मैं वैज्ञानिक नहीं हूं। लेकिन एक किसान के रूप में मैं चाहूंगा कि मेरे दोस्त जो जीएम प्रौद्योगिकी का विरोध कर रहे हैं, वे मेरे कुछ सवाल का जवाब दें। उदाहरण के लिये, क्या यह सही नहीं है कि जीएम प्रौद्योगिकी उर्वरक तथा कीटनाशकों के उपयोग में उल्लेखनीय कमी लाती है? इससे किसानों को मिट्टी की गुणवत्ता को बनाये रखने तथा धन की बचत में मदद मिलती है।’’

उन्होंने कहा कि हम अमेरिका में उत्पादित जीएम सोया का उपयोग कर सकते हैं लेकिन हम हम अपनी जमीन पर इस प्रौद्योगिकी का लाभ लेने को तैयार नहीं हैं। राकांपा नेता ने अपने ब्लाग में यह सब लिखा हैं इसे पार्टी की आधिकारिक वेबसाइट पर आज पोस्ट किया गया। उन्होंने कहा, ‘‘क्या यह सही नहीं है कि जीएम प्रौद्योगिकी से खाद्य उत्पादन चार गुना बढ़ा है, अतिरिक्त भूमि की जरूरत कम हुई है, फलत: पेड़- पौधों का संरक्षण हो पाया है।’’

पवार ने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि नई धारणा या विचार को अपनाने के मामले में किसान बेहतर निर्णय कर सकता है। देश में 90 प्रतिशत कपास किसान पहले ही जीएम प्रौद्योगिकी को अपना चुके हैं।’’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You