आर्थिक वृद्धि मामले में भारत के लिए खतरे की घंटी बजाने की जरूरत नहीं: मोंटेक

  • आर्थिक वृद्धि मामले में भारत के लिए खतरे की घंटी बजाने की जरूरत नहीं: मोंटेक
You Are HereBusiness
Thursday, January 23, 2014-3:53 PM

दावोस: भारत के विकास की कहानी पर भरोसा जताते हुए योजना आयोग के उपाध्यक्ष मोंटेक सिंह अहलूवालिया ने आज कहा कि देश में बनने वाली अगली सरकार को राजकोषीय मजबूती की प्रक्रिया को आगे बढ़ाना होगा जिससे की आर्थिक गतिविधियों की रफ्तार बरकरार रखी जा सके। उन्होंने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए खतरे की घंटी बजाने की जरूरत नहीं है क्योंकि यह पहले ही 5 फीसद की दर से बढ़ रही है और आगे चलकर इसमें और सुधार होगा।

 

अहलूवालिया ने यहां कहा, ‘‘ऐसे देश के लिए खतरे की घंटी बजाने  की जरूरत नहीं है जो पहले ही 5 फीसद की दर से बढ़ रहा है और जिसमें 6 प्रतिशत, तथा और चलकर 7.5 प्रतिशत वृद्धि दर हासिल करने की क्षमता है।’’ अहलूवालिया यहां विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) की सालाना बैठक के मौके पर उद्योग मंडल सीआईआई व बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप (बीसीजी) द्वारा अलग से आयोजित जलपान सत्र को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अगली सरकार को राजकोषीय मजबूती की प्रक्रिया को आगे बढ़ाना होगा।

 

अहलूवालिया ने कहा, ‘‘जब हम किसी देश की वास्तविक वृद्धि क्षमता की बात करते हैं, विशेष रूप से जब कुछ समय पहले तक 9 प्रतिशत वृद्धि दर की बात कर रहे थे, तो कुछ अन्य कारक व कुछ ‘ओवरहीटिंग’ भी दिखाई दी। दीर्घावधि की वृद्धि दर  क्षमता आसानी से 7.5 फीसद हो सकती है।’’  उन्होंने उम्मीद जताई कि मतदाता आगामी आम चुनाव में समझदारी से वोट देंगे। उन्होंने इसके साथ ही कहा कि बुनियादी ढांचा विकास व निवेश पर निरंतर ध्यान दिए जाने की जरूरत है। अहलूवालिया ने कहा, ‘‘मुझे विश्वास है कि जो भी सरकार सत्ता में आएगी, वह सुधारों की प्रक्रिया को आगे बढ़ाएगी। हालांकि विभिन्न क्षेत्रों को लेकर प्राथमिकताएं बदल सकती हैं।’


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You