5 बैंकों के SBI में विलय का बिल लोकसभा में पारित

  • 5 बैंकों के SBI में विलय का बिल लोकसभा में पारित
You Are HereBusiness
Friday, August 11, 2017-12:59 PM

नई दिल्लीः पांच सहयोगी बैंकों के स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में विलय का बिल लोकसभा में पारित हो गया। इस कदम के बाद एस.बी.आई विश्व के शीर्ष पचास बैंकों में शामिल हो गया है। सरकार का कहना है कि विकास कार्यो को गति देने के लिए यह फैसला जरूरी था। जिन सहयोगी बैंकों का एस.बी.आई. में विलय किया गया उनमें स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, स्टेट बैंक ऑफ पटियाला व स्टेट बैंक ऑफ त्रवणकोर शामिल हैं। इस विलय के बाद एस.बी.आई. के ग्राहकों की संख्या 37 करोड़ तक पहुंच गई है।

टॉप 50 ग्‍लोबल बैंकों में शामिल हुआ SBI
देश भर में वह 24 हजार शाखाएं व 59 हजार एटीएम संचालित कर रहा है। स्टेट बैंक ऑफ मैसूर में एस.बी.आई. का 90 फीसदी हिस्सा था जबकि बीकानेर एंड जयपुर में 75.07 फीसदी। त्रवणकोर में बैंक की हिस्सेदारी 79.09 फीसदी है। वित्त राज्य मंत्री संतोष गंगवार ने सदन में बताया कि बिल पारित होने के बाद एस.बी.आई. विश्व की 45 वीं सबसे बड़ी बैंकिंग संस्था बन गई है। फैसले से बैंक का कैपिटल बेस बढ़ेगा तो लोन देने की क्षमता में वृद्धि होगी। मंत्री ने आश्वस्त किया कि कोई भी शाखा बंद करने नहीं जा रहे बल्कि जरूरत के हिसाब से नई शाखाएं खोली जाएंगी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You