दवा कंपनियों की बड़ी धांधली, NPPA ने किया ये खुलासा

  • दवा कंपनियों की बड़ी धांधली, NPPA ने किया ये खुलासा
You Are HereBusiness
Thursday, May 18, 2017-11:44 AM

नई दिल्लीः ये खबर सुनकर शायद आपको भरोसा न हो। आप कभी ऐसा सोच भी नहीं सकते कि देश की सबसे भरोसेमंद दवा कंपनियां ऐसा कर सकती हैं, लेकिन ये सच है। दवाओं के दाम तय करने वाली संस्था एन.पी.पी.ए. ने दवा कंपनियों की एक बड़ी धांधली पकड़ी है। दरअसल इन कंपनियों ने दवा की कीमत तय किए जाने पर चोर रास्ते से उसकी ताकत को कम कर दिया। दवा कंपनियों ने तय कीमत से बचने के लिए दवा का कंपोजिशन बदल दिया। इस तरह, कंपनियों ने दवा की ताकत और डोज बदलकर कर बाजार में उतारा।

एन.पी.पी.ए. को 200 दवाओं को कीमत में गड़बड़ी मिली है और ये दवाएं तय कीमत से ज्यादा पर बिक रही थी। कुल 19 कंपनियों की धांधली पकड़ी गई है और अब इन कंपनियों पर कार्रवाई की जा सकती है। धांधली करने वाली कंपनियों में एबॉट हेल्थकेयर, एल्केम लैब्स, कैडिला, डॉ रेड्डीज, ग्लेनमार्क, रैनबैक्सी, वॉकहार्ट और जायडस कैडिला का नाम सामने आया है।

क्या है सरकार की नई गाइडलाइन
गाइडलाइन के अनुसार एनपीपीए की मॉनिटरिंग एंड एग्जामिनेशन (एम एंड ई) डिवीजन अलग-अलग सोर्सेज के जरिए अलग-अलग इलाकों से ओवरप्राइसिंग के मामलों की पहचान करेगा। इन मामलों की पहचान करते समय टीम के पास एन.पी.पी.ए. द्वारा जिन दवाइयों की कीमत तय की गई है, उसका पूरा ब्योरा होगा।

ओवरप्राइसिंग के मामलों की पहचान करने के बाद टीम सभी मामलों को शिड्यूल और नॉन शिड्यूल ड्रग में कैटेगराइज करेगी। इसके बाद देखा जाएगा कि किन मामलों में डीपीसीओ एक्ट 2013 का वॉयलेशन हुआ है। इसके बाद ये सभी जानकारियां सरकार के पास भेजी जाएंगी, जिसके बाद कंपनियों से रिकवरी की प्रक्रिया शुरू की जाएगी।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You