आज का गुडलक- धनतेरस के मौके पर कुबेर भरेंगे पूरे साल आपकी तिजोरी

Tuesday, October 17, 2017-7:08 AM

आज मंगलवार दी॰ 17.10.17 को कार्तिक कृष्ण त्रियोदशी पर धनतेरस पर्व मनाया जाएगा। इस दिन धन के देवता कुबेर, देव वैद्य धन्वन्तरी तथा मृत्यु के देवता यमराज के पूजन का विधान है। इस दिन धन-कुबेर के निमित्त किए गए विशेष पूजन व उपाय से व्यक्ति धन-धान्य से परिपूर्ण हो जाता है। वास्तु शास्त्र की दृष्टि से उत्तर दिशा को कुबेर व जल तत्व का स्थान माना गाय है। इसी कारण इस स्थान को हल्का और पानी से धोकर साफ रखा जाता है। कुबेर खजाने के देवता माने गए हैं। देवी लक्ष्मी तो चंचल हैं परंतु कुबेर का धन सदैव स्थिर रहता है। कुबेर सोना, चांदी व बर्तनों पर आधिपत्य रखते हैं, इसी कारण धनतेरस पर कलश में गंगाजल लेकर उत्तर दिशा व तिजोरी में छिड़काव कर कुबेर का स्वागत किया जाता है। इसी दिन से घर की उत्तर दिशा में पंच दिवसीय गणेश, लक्ष्मी, कुबेर, सरस्वती व काली की स्थापना की जाती है। इसी दिन लोग बाजार से कुबेर के रूप में कीमती धातु के सिक्के व बर्तनों की खरीदारी करके घर व कार्यालय में स्थापित करते हैं। धनतेरस पर कुबेर के विशेष पूजन व उपाय से निर्धन भी अमीर बन जाते हैं, खाली तिजोरी भी पूरे साल भर भरी रहती है तथा स्थिर धन प्राप्त होता है। इस विशेष कार्यक्रम में आपको पूजा विधि के साथ-साथ खरीदारी, स्थापना विशेष पूजन मुहूर्त भी बता रहे हैं। 


विशेष पूजन विधि: घर की उत्तर दिशा में लाल कपड़े पर नए खरीदे तांबे के कलश में गंगा जल भरकर स्थापित करें पास में ही नए खरीदे कुबेर यंत्र को स्थापित करें। तांबे के दिए में शुद्ध घी का दीप जलाएं, गूगल धूप करें, लाल फूल चढ़ाएं। रक्त चंदन चढ़ाएं। जटामासी चढ़ाएं। गुड़ का भोग लगाएं तथा लाल चंदन की माला से इस विशेष मंत्र से का 1 माला जाप करें। पूजन के बाद गुड़ को जल प्रवाह करें।


दिन में खरीदारी मुहूर्त: सुबह 08:46 से सुबह 11:05 तक। (स्थिर वृश्चिक लग्न)


शाम में खरीदारी मुहूर्त: शाम 17:45 से रात 20:17 तक। (श्रेष्ठ प्रदोष काल)


स्थापना मुहूर्त: शाम 19:19 से रात 21:14 तक। (स्थिर वृषभ लग्न)


यम दीपदान मुहूर्त: शाम 17:45 से शाम 19:01 तक। (मेष चर लगन)


विशेष पूजन मुहूर्त: प्रातः 08:15 से प्रातः 09:15 तक।


पूजन मंत्र: ॐ यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय, धन धन्याधि-पतये धन धान्य समृद्धि मे देहि दापय स्वाहा। 

 
आज का शुभाशुभ
आज का अभिजीत मुहूर्त:
दिन 11:43 से दिन 12:28 तक।


आज का अमृत काल: रात 23:19 से रात 12:56 तक।


आज का राहु काल: दिन 14:55 से शाम 16:20 तक।


आज का गुलिक काल: दिन 12:06 से दिन 13:31 तक।


आज का यमगंड काल: प्रातः 09:16 से प्रातः 10:41 तक।


यात्रा मुहूर्त: आज दिशाशूल उत्तर व राहुकाल वास पश्चिम में है। अतः उत्तर व पश्चिम दिशा की यात्रा टालें।


आज का गुडलक ज्ञान
आज का गुडलक कलर:
लाल।


आज का गुडलक दिशा: दक्षिण।


आज का गुडलक मंत्र: ॐ श्रीं, ॐ ह्रीं श्रीं, ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं वित्तेश्वराय: नम:॥


आज का गुडलक टाइम: प्रातः 11:05 से दिन 12:05 तक।


आज का बर्थडे गुडलक: स्थिर धन प्राप्ति हेतु घर की उत्तर दिशा में गंगाजल से भरे कलश में मोतीशंख डालकर स्थापित करें।


आज का एनिवर्सरी गुडलक: पारिवारिक समृद्धि हेतु कुबेर यंत्र पर गन्ने का टुकड़ा चढ़ाएं।


गुडलक महागुरु का महा टोटका: रुके धन की प्राप्ति के लिए आटे के चौमुखी दीपक में घी, तिल, जावित्री नागकेसर डालकर किसी चौराहे पर जाकर जलाएं। 


आज के गुडलक में बस इतना ही। कल गुडलक में आपसे फिर मुलाक़ात होगी और हम आपको बताएंगे रूप चौदस पर कैसे मिलेगी नर्क से मुक्ति, कैसे सदा जवान बने रहेंगे  और कैसे बढ़ेगी आपकी खूबसूरती।


आचार्य कमल नंदलाल
ईमेल: kamal.nandlal@gmail.com

Edited by:Aacharya Kamal Nandlal
यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You