क्या वास्तव में हर चीज में भगवान हैं

  • क्या वास्तव में हर चीज में भगवान हैं
You Are HereDharm
Thursday, February 20, 2014-6:08 AM

विश्व में भगवान के अलावा किसी का भी अस्तित्व नहीं है। यदि आप भगवान शब्द का प्रयोग नहीं करना चाहते हैं तो आप ऊर्जा या बुद्धि कह सकते हैं। सृष्टि का मूल सारे अस्तित्व में विद्यमान है और वह सिर्फ एक है; सिर्फ एक सूर्य, परन्तु आप उसे किसी भी खिड़की से देख सकते हैं।

इस दुनिया में कई पैगंबर आए और चले गए। वे सब एक खिड़की के जैसे थे। किसी भी खिड़की से आप उसी सूर्य, आकाश को देख सकते हैं। एक आकाश जो एक दीवार के पीछे है, वह एक खिड़की के पीछे भी है। भगवान हर किसी में है। वह कुत्ते, बिल्ली, पेड़-पत्ती और चींटियों में भी है। वह सृष्टि की हर चीज में है। खिड़की से आप उससे चूक ही नहीं सकते क्योंकि खिड़की बहुत पारदर्शी होती है।

सारे शब्द जिनका हम प्रयोग करते हैं और जो वार्तालाप हम करते हैं, उसका उद्देश्य हमारे दिलों में प्रेम और मौन का सृजन करना होता है। यदि शब्द लोगों के मन में अशांति लाते हैं, तो उन शब्दों ने सचमुच अपने आप को पूरा नहीं किया है और वे अपने सही पथ पर नहीं है।

जब मन शिकायत कर रहा होता है तो वह इस बात से सजग नहीं होता कि वह शिकायत कर रहा है। उससे सजग होना पहला कदम है, फिर आपके पास क्या है उसके प्रति सजग होना है। आपका दिल आभार से परिपूर्ण हो जाएगा। फिर सारी शिकायत गायब हो जाएगी और आप काफी सरल, स्वाभाविक, प्रेमपूर्ण और मुक्त हो जाएंगे।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You