भगवान शिव की पूजा में न करें इन चीजों का प्रयोग, पुण्य की जगह लगेगा पाप

  • भगवान शिव की पूजा में न करें इन चीजों का प्रयोग, पुण्य की जगह लगेगा पाप
You Are HereDharm
Sunday, April 09, 2017-1:32 PM

भगवान शिव ही आदि अौर अनंत हैं जो पूरे ब्रह्मांड के कण-कण में विद्यमान हैं। भोलेनाथ अपने भक्तों पर शीघ्र प्रसन्न होकर उनकी हर मनोकामना पूर्ण करते हैं। भगवान शिव एक लोटे जल से भी प्रसन्न हो जाते हैं लेकिन शास्त्रों में कुछ ऐसी चीजों का उल्लेख है जिनके प्रय़ोग से भोलेनाथ शीघ्र क्रोधित हो जाते हैं। इन चीजों को अन्य देवी-देवताअों की पूजा में प्रयोग किया जाता है। लेकिन भोलेनाथ की पूजा में इनका प्रयोग निषेध है। शिव पूजा में इन चीजों के इस्तेमाल से व्यक्ति पुण्य की जगह पाप का भागी बन जाता है अौर भगवान शंकर के प्रकोप को झेलता है। 
PunjabKesari
घर में दो शिवलिंग की स्थापना नहीं करनी चाहिए। ऐसा करने से घर में दरिद्रता अौर दुर्भाग्या का वास होता है। जिससे घर के सभी सदस्यों को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। 
PunjabKesari
भोलेनाथ पर हमेशा पीतल, कांसे या अष्टधातु के बर्तन या लोटे से ही जल अर्पित करना चाहिए, लोहे या स्टील के बर्तन से नहीं।
PunjabKesari
सभी देवकार्यों में तुलसी का प्रयोग किया जाता है लेकिन भोलेनाथ पर तुलसी अर्पित करना वर्जित है। कुछ लोगों को इस बारे में ज्ञान न होने के कारण वे शिव पूजा में तुलसी का प्रयोग करते हैं। जिसके कारण उनकी पूजा पूर्ण नहीं होती।
PunjabKesari
शिव पूजा में बिल्व पत्र का विशेष महत्व है। कटे-फटे बिल्व पत्र भगवान शिव को अर्पित न करें। ऐसा करने से पूजा का उल्टा फल मिलता है। जब भी भगवान शिव पर बिल्व पत्र अर्पित करें तो उन्हें देखकर अौर धोकर प्रयोग करें। जिससे भोलेनाथ कि कृपा सदैव बनी रहे।
PunjabKesari
पूजा के सभी कार्यों में शंख का प्रयोग किया जाता है, लेकिन शिवलिंग पर इससे जल अर्पित नहीं करना चाहिए। श‌िव पुराण के अनुसार भगवान श‌िव ने शंखचूर नाम के असुर का वध क‌िया था। इसल‌िए शंख श‌िव जी की पूजा में वर्ज‌ित है। 
PunjabKesari
कुमकुम सौभाग्य का प्रतीक है, जबक‌ि भगवान श‌िव वैरागी हैं, इसल‌िए श‌िव जी को कुमकुम नहीं चढ़ता।
PunjabKesari
भगवान शिव को हल्दी अर्पित नहीं की जाती क्योंकि हल्दी स्त्री सौंदर्य प्रसाधन में प्रयोग की जाती है और शास्त्रों के अनुसार शिवलिंग पुरुषत्व का प्रतीक है।
PunjabKesari
भोलेनाथ पर लाल रंग के फूल अर्पित नहीं किए जाते। इसके अतिरिक्त केतकी अौर केवड़े के फूल अर्पित करना भी वर्जित है। भगवान शिव को सफेद रंग के फूल अर्पित करने से वे शीघ्र प्रसन्न होते हैं। 
PunjabKesari
भगवान शिव को खंड़ित अक्षत नहीं चढ़ाने चाहिए। खंड़ित चावल अपूर्ण और अशुद्ध होते हैं इसल‌िए यह भोलेनाथ को अर्पित नहीं किए जाते। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You