हनुमान नहीं भरत थे श्रीराम के सबसे बड़े भक्त

  • हनुमान नहीं भरत थे श्रीराम के सबसे बड़े भक्त
You Are HereDharm
Monday, November 13, 2017-9:23 AM

हनुमान जी जब पर्वत लेकर लौटते है तो भगवान श्रीराम से कहते हैं। प्रभु आपने मुझे संजीवनी बूटी लेने नहीं भेजा था। आपने तो मुझे मेरी मूर्छा दूर करने के लिए भेजा था।

 

 "सुमिरि पवनसुत पावन नामू। 
  अपने बस करि राखे रामू"

 

हनुमान जी ने पवित्र नाम का स्मरण करके श्री रामजी को अपने वश में कर रखा है, प्रभु आज मेरा ये भ्रम टूट गया कि मैं ही आपका सबसे बड़ा भक्त, राम नाम का जप करने वाला हूं।

 

भगवान बोले कैसे? "हनुमान जी बोले- वास्तव में तो भरत जी संत है और उन्होंने ही राम नाम जपा है।"  

 

आपको पता है जब लक्ष्मण जी को शक्ति लगी तो मैं संजीवनी लेने गया पर जब मुझे भरत जी ने बाण मारा और मैं गिरा, तो भरत जी ने, न तो संजीवनी मंगाई, न वैध बुलाया। कितना भरोसा है उन्हें आपके नाम पर, आपको पता है उन्होंने क्या किया?

 

"जौ मोरे मन बच अरू काया,
प्रीति राम पद कमल अमाया"

 

तौ कपि होउ बिगत श्रम सूला,
जौ मो पर रघुपति अनुकूला 

 

सुनत बचन उठि बैठ कपीसा,
कहि जय जयति कोसलाधीसा"


यदि मन वचन और शरीर से श्री राम जी के चरण कमलों में मेरा निष्कपट प्रेम हों यदि रघुनाथ जी मुझ पर प्रसन्न हों तो यह वानर थकावट और पीड़ा से रहित हो जाएगा। 

 

यह वचन सुनते ही मैं श्री राम, जय राम, जय-जय राम कहता हुआ उठ बैठा। मैं नाम तो लेता हूं पर भरोसा भरत जी जैसा नहीं किया, वरना मै संजीवनी लेने क्यों जाता, बस ऐसे ही व्यक्ति करता है, नाम तो भगवान का लेता है पर भरोसा नही करता, बुढ़ापे में बेटा ही सेवा करेगा, बेटे ने नहीं की तो क्या होगा? उस समय इंसान भूल जाता है कि जिस भगवान का नाम वो जप रहा है वे हैं न, पर भरोसा नहीं करता। बेटा सेवा करे न करे पर भरोसा व्यक्ति उसी पर करता है।

 

दूसरी बात प्रभु!
बाण लगते ही मैं गिरा, पर्वत नहीं गिरा, क्योकि पर्वत तो आप उठाए हुए थे और मैं अभिमान कर रहा था कि मैं उठाए हुए हूं। मेरा दूसरा अभिमान टूट गया, इसी तरह इंसान भी यही सोच लेता है कि गृहस्थी के बोझ को मै उठाए हुए हूं।

 

फिर हनुमान जी कहते हैं
और एक बात प्रभु ! आपके तरकस में भी ऐसा बाण नहीं है जैसे बाण भरत जी के पास है। आपने सुबाहु मारीच को बाण से बहुत दूर गिरा दिया, आपका बाण तो आपसे दूर गिरा देता है, पर भरत जी का बाण तो आपके चरणों में ला देता है। मुझे बाण पर बैठाकर आपके पास भेज दिया।

 

भगवान बोले- "हनुमान जब मैंने ताड़का को मारा और भी राक्षसों को मारा तो वे सब मरकर मुक्त होकर मेरे ही पास तो आए", इस पर हनुमान जी बोले प्रभु आपका बाण तो मरने के बाद सबको आपके पास लाता है पर भरत जी का बाण तो जिंदा ही भगवान के पास ले आता है।

 

भरत जी संत है और संत का बाण क्या है? संत का बाण है उसकी वाणी लेकिन व्यक्ति क्या करता है, संत वाणी को समझते तो हैं पर सटकते नहीं हैं, और औषधि सटकने पर ही फायदा करती है।

 

हनुमान जी को भरत जी ने पर्वत सहित अपने बाण पर बैठाया तो उस समय हनुमान जी को थोडा़ अभिमान हो गया कि मेरे बोझ से बाण कैसे चलेगा? 

 

परंतु जब उन्होंने रामचंद्र जी के प्रभाव पर विचार किया तो वें भरत जी के चरणों की वंदना करके चले हैं।

 

इसी तरह इंसान भी कभी-कभी संतो पर संदेह करते है, कि ये मुझे कैसे भगवान तक पहुंचा देगा, संत ही तो हैं जो व्यक्ति को सोते से जागते हैं जैसे हनुमान जी को जगाया, क्योंकि उनका मन, वचन, कर्म सब भगवान में लगा है। अरे उन पर भरोसा तो करो तुम्हें तुम्हारे बोझ सहित भगवान के चरणों तक पहुंचा देगें।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You