झुंपा लाहिड़ी हुई अमेरिकी अवॉर्ड के लिए नामित

  • झुंपा लाहिड़ी हुई  अमेरिकी अवॉर्ड के लिए  नामित
You Are HereInternational
Friday, September 20, 2013-2:26 PM

वॉशिंगटन:  पुलित्जर पुरस्कार जीतने वाली भारतवंशी लेखिका झुंपा लाहिड़ी को अमेरिका के नेशनल बुक अवार्ड की उपन्यास श्रेणी में नामित किया गया है तथा एक दिन पहले उन्हें उनके नए उपन्यास 'द लोलैंड ' झुंपा लाहिड़ी के लिए 'मैन बुकर' पुरस्कार के लिए नामित किया गया था। लाहिड़ी के उपन्यास 1960 के दशक में कोलकाता में रहने वाले दो भाईयों की कहानी पर आधारित के अतिरिक्त लेखक टॉम ड्रुरी का 'पेसिफिक', एलिजाबेथ ग्रैवर्स का 'द एंड ऑफ द प्वाइंट' और रचेल कुशनर का 'द फ्लेमथ्रोअर्स' भी इस पुरस्कार की दौड़ में शामिल हैं।

नेशनल बुक फाउंडेशन ने कहा कि 16 अक्टूबर को यंग पीपुल्स के साहित्य, कविता, उपन्यास और गैर उपन्यास की श्रेणी में अंतिम दौर में पहुंचने वाले लेखक-लेखिकाओं के नाम घोषित किए जाएगी और 20 नवंबर को न्यूयॉर्क में विजेता का नाम  घोषित किया जाएगा। लाहिड़ी लंदन में पैदा हुई थी अब वह न्यूयॉर्क के ब्रुकलिन में रहती हैं और उनका संबंध पश्चिम बंगाल से है। इससे पहले उन्होंने तीन पुस्तकें लिखी हैं और उनकी पहली पहली पुस्तक 'इंटरपेट्रर ऑफ मालादीज' कहानियों की श्रृंखला थी जिसे पुलित्जर पुरस्कार और पीईएन/हेमिंग्वे अवार्ड प्राप्त हुआ था। ' द नेमसेक' नाम के उपन्यास  को भी काफी चर्चा मिली थी और प्रसिद्ध फिल्मकार मीरा नायर ने इसी नाम से इस पर एक फिल्म भी बनाई थी।

उनकी दूसरी पुस्तक' अनअकस्टम्ड अर्थ 'को  न्यूयार्क' टाइम्स बुक रिव्यू 'में शीर्ष 10 पुस्तकों में स्थान दिया गया था। उनके हालिया उपन्यास की समीक्षा में न्यूयार्क टाइम्स ने लिखा था कि लाहिड़ी ने भारतीय आप्रवासियों के अमेरिका में खुद को ढालने की  कोशिश को ध्यानपूर्वक देखकर लिखी गई कहानियों से अपना नाम बनाया था, लेकिन नया उपन्यास' द लोलैंड 'इसके विपरीत आश्चर्यजनक रूप से पेश किया गया ओपरा है। यह निश्चित तौर पर लाहिड़ी का सबसे महात्वकांक्षी कार्य है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You