मोदी के नाम पर शिकागो में बवाल

  • मोदी के नाम पर शिकागो में बवाल
You Are HereGujrat
Monday, September 23, 2013-3:32 PM

अहमदाबाद: भाजपा ने गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को भले ही अपना प्रधानमंत्री पद का दावेदार घोषित किया हो लेकिन उनको लेकर आए दिन कोई न कोई नया बवाल या बयानबाजी होती ही रहती है। सूत्रों के अनुसार मोदी को लेकर फिर से एक नया बवाल मच गया है। शिकागो में काउंसल फॉर ए पार्लियामेंट ऑफ द वर्ल्ड रिलीजियस (सीपीडब्ल्यूआर) में 2002 में गुजरात में हुए दंगों में मोदी की भूमिका को लकर विवाद पैदा हो गया है। सीपीडब्ल्यूआर ने स्वामी विवेकानंद की 150वीं जयंती पर होने वाले समारोह से अपना नाम वापिस ले लिया है।

 

सीपीडब्‍ल्यूआर का गठन 1893 में हुआ था और विवेकानंद ने जब शिकागो को संबोधित किया था तो इसी संस्‍था द्वारा वह कॉन्फ्रेंस आयोजित की थी। स्वामी विवेकानंद की 150वीं जयंती से संबंधित समारोह 27-28 सितंबर को होना है और समारोह वर्ल्ड विदआउट बॉर्डर्स के बैनर तले होना है। विहिप और कई धार्मिक संस्थान इस समारोह के स्पॉन्सर में शामिल हैं। सीपीडब्‍ल्यूआर के बोर्ड की वाइस चेयर डॉ. मैरी नेल्सन ने कहा कि सीपीडब्‍ल्यूआर 120 साल पुरानी संस्‍था है और इसका उद्देश्य स्वामी विवेकानंद की तरह शांति और सभी धर्मों के बीच सौहार्द्र कायम करना है।

 

हमारी संस्था शांति के लिए काम करती है और हम स्वामी विवेकानंद की विरासत का सम्मान करते हैं। डॉ. मैरी नेल्सन ने कहा कि हमें पहले नहीं मालूम था कि जिस समारोह के प्रायोजकों में हम शामिल हैं उसके स्पॉन्सर में ऐसे भी लोग शामिल हैं जो विवादास्पद राजनीति को बढ़ावा देने वाले हैं। माना जा रहा है कि 'कोलिशन अगेंस्ट जिनोसाइड' नामक संस्‍था ने मोदी और विहिप पर 2002 के गुजरात सांप्रदायिक दंगों का आरोप लगाते हुए सीपीडब्‍ल्यूआर को इस समारोह में नाम लेने पर मनाने में खास भूमिका निभाई है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You