रडार से बचने वाला भारतीय पोत आईएनएस सहयाद्रि ऑस्ट्रेलिया रवाना

  • रडार से बचने वाला भारतीय पोत आईएनएस सहयाद्रि ऑस्ट्रेलिया रवाना
You Are HereInternational
Tuesday, October 01, 2013-3:12 PM

मेलबर्न: ऑस्ट्रेलिया के साथ नौसैन्य संबंधों को बढ़ाने के लिए भारत का नवतैनात पोत आईएनएस साहयाद्रि इस माह सिडनी में आयोजित होने वाले इंटरनेशनल फ्लीट रिव्यू (अंतर्राष्ट्रीय जहाजी बेड़ा समीक्षा) में हिस्सा लेगा। मिसाइलों से युक्त यह पोत रडार की पहुंच से बाहर रहता है। 4 अक्तूबर से शुरू होने वाले आईएफआर में शिवालिक श्रेणी का बहुआयामी पोत रॉयल ऑस्ट्रेलियन नेवी (आरएएन) द्वारा आयोजित विभिन्न अभ्यासों में भाग लेगा। यह युद्धक पोत बनाने की भारत की स्वदेशी क्षमताओं का भी प्रदर्शन करेगा।

एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि आईएफआर में आईएनएस साहयाद्रि की भागीदारी से नौसैन्य संबंध बढ़ेंगे और इससे आरएएन और अन्य भागीदार नौसेनाओं के साथ परस्पर संचालन को भी बढ़ावा मिलेगा। इस दौरे का अतिमहत्वपूर्ण लक्ष्य शांति और समृद्धि का साझा लक्ष्य लेकर चलने वाले भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच मैत्री संबंधों और सौहार्द को मजबूती देना है। पिछले साल जुलाई में तैनात किए गए आईएनएस साहयाद्रि पर 24 अधिकारियों और 250 नौसैनिकों का एक दल है।

इस पर लगी लंबी दूरी की मारक क्षमता वाली जहाज-रोधी मिसाइलें, सतह से हवा में मार सकने वालीं मध्यम व कम दूरी की मिसाइलें और इसमें लगा हथियार तंत्र इसे हवाई खतरों से एक मजबूत सुरक्षा कवच उपलब्ध करवाता है। विभिन्न भूमिकाएं निभाने में सक्षम हेलीकॉप्टर और पनडुब्बी-विरोधी रॉकेट वाला यह पोत सतह के नीचे से होने वाले हमलों को भी विफल करने में समर्थ है। जहाज पर लगे सेंसर इसके लिए बाहरी निरीक्षण करते हैं ताकि हवा, सतह और सतह के नीचे मौजूद खतरों को पहचान सकें और उनका वर्गीकरण भी किया जा सके।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You