भारत, रूस पांच समझौतों पर हस्ताक्षर करेंगे, कुडनकुलम समझौता होने की संभावना नहीं

  • भारत, रूस पांच समझौतों पर हस्ताक्षर करेंगे, कुडनकुलम समझौता होने की संभावना नहीं
You Are HereNational
Monday, October 21, 2013-6:20 AM

मॉस्को: प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की कल राष्ट्रपति ब्लादीमिर पुतिन के साथ होने वाली बैठक के दौरान कुडनकुलम में दो नए परमाणु संयंत्र लगाने के समझौते को संभवत: झटका लग सकता है क्योंकि जवाबदेही कानून को लेकर कानूनी अड़चन उभरती दिख रही है।

प्रधानमंत्री आज दोपहर यहां पहुंचे और पांचवें वार्षिक शिखर सम्मेलन के लिए उनकी भव्य अगवानी की गई। रूस के उप विदेश मंत्री मिखाइल बोगडानोव ने उनका स्वागत किया और फिर उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। प्रधानमंत्री ने दिल्ली से प्रस्थान करते वक्त और न ही यहां पहुंचने पर कुडनकुलम परमाणु बिजली संयंत्र के लिए रूस के साथ परमाणु समझौते के बारे में चर्चा की।

सरकार के शीर्ष सूत्रों ने कहा कि तमिलनाडु के तिरूनेलवेली जिले में रूस के सहयोग से बनने वाली इकाई तीन और इकाई चार पर समझौते को मंजूरी मिलने से पहले दोनों पक्षों के वकीलों को इसकी विषयवस्तु स्पष्ट करनी होगी। सिंह ने यहां पहुंचने पर संवाददाताओं से कहा कि भारत और रूस के बीच विशेष सहयोग है और इसलिए 14वां शिखर सम्मेलन हो रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘हम विभिन्न क्षेत्रों जैसे परमाणु उर्जा, रक्षा सहयोग, अंतरिक्ष सहयोग, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, वाणिज्य एवं निवेश में अपने सहयोग और इसकी प्रगति की समीक्षा करने जा रहे हैं । साथ ही हम अंतरराष्ट्रीय और क्षेत्रीय विकास की भी समीक्षा करेंगे कि किस तरीके से वे दोनों देशों पर प्रभाव डालते हैं और किस तरीके से हम दुनिया में शांति एवं समृद्धि के लिए मिलकर काम कर सकते हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You