कभी भारत पर लक्षित नहीं थी ब्रिटेन की वीजा बांड योजना : कैमरन

  • कभी भारत पर लक्षित नहीं थी ब्रिटेन की वीजा बांड योजना : कैमरन
You Are HereInternational
Tuesday, November 05, 2013-4:51 PM

लंदन: कुछ एशियाई और अफ्रीकी देशों के यात्रियों पर प्रतिबंध लगाने के लिए बनाई गई विवादित वीजा योजना को खारिज किए जाने के एक दिन बाद ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने कहा है कि 3000 पाउंड की यह वीजा बांड योजना कभी भी भारत पर लक्षित नहीं थी। कैमरन ने भारत के अपने दौरे से पहले कहा, ‘यह कभी भारत पर लक्षित नहीं थी।’ कैमरन 14 नवंबर को भारत के दौरे पर आने वाले हैं। यह पिछले दो वर्षों में उनकी तीसरी यात्रा होगी।

उन्होंने एक भारतीय टेलीविजन चैनल से कहा, ‘सरकार के भीतर यह विचार पेश किया गया था लेकिन हमने इस विचार पर आगे नहीं बढने का निर्णय किया है। हम चाहते हैं कि भारत के लोग ब्रिटेन आएं।’ भारत ने वीजा बांड योजना के संबंध में मंत्री और अधिकारी दोनों स्तरों पर अपनी चिंता से ब्रिटिश सरकार को अवगत कराया था। इस योजना का लक्ष्य छोटी-अवधि का वीजा समाप्त होने के बाद भारत, पाकिस्तान और नाइजीरिया सहित कुछ देशों के यात्रियों को ब्रिटेन में ठहरने से रोकना था। इस योजना के तहत ब्रिटेन आने वालों को देश में प्रवेश से पहले 3,000 पाउंड का नकदी बांड भरना पड़ता और यदि वे किसी कारणवश वापस जाने में असफल रहते तो यह राशि जब्त कर ली जाती।


श्रीलंका में 15-16 नवंबर को आयोजित चोगम सम्मेलन में भाग लेने से पहले कैमरन 14 नवंबर को एक दिन की भारत यात्रा पर आएंगे । यात्रा के दौरान वह प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से महत्वपूर्ण द्विपक्षीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर बातचीत करेंगे। कैमरन ने कहा कि उनकी सरकार भारतीय जनता पार्टी की ओर से प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी से भी बातचीत कर रही है लेकिन उन्होंने भारत के आगामी दौरे में उनके साथ बैठक की संभावना को नकार दिया।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You