सेना ने कुर्सी से हटाने से पहले किया था मेरा अपहरण: मुर्सी

  • सेना ने कुर्सी से हटाने से पहले किया था मेरा अपहरण: मुर्सी
You Are HereInternational
Wednesday, November 13, 2013-11:56 PM

काहिराः मिस्र के अपदस्थ राष्ट्रपति मोहम्मद मुर्सी ने आज इस बात का दावा किया है कि कुर्सी से हटाने से पहले रिब्लिकन गार्ड ने उनका अपहरण किया था और बाद में नौसेना के एक ठिकाने पर बंधक बनाकर रखा था।

मोहम्मद मुर्सी के वकील मोहम्मद दामिति ने आज टेलीविजन पर उनका एक पत्र पढा जिसमें उन्होंने अपने अपहरण की बात की है। मोहम्मद मुर्सी फिलहाल जेल में बंद हैं। उन्होनें पहली बार सत्ता से हटाए जाने के घटनाक्रम का ब्योरा दिया है। इससे पहले मीडिया में तरह तरह के कयास ही लगाए जा रहे थे और लोग उस दौरान उनके ठिकाने के बारे में अनभिज्ञ थे।

उस समय यह खबर आई थी कि सैन्य प्रमुख अब्दुल फतह अल सिसी ने श्री मुर्सी का तख्तापलट कर दिया है लेकिन फिलहाल श्री मुर्सी के ठिकाने के बारे में कोई जानकारी नहीं है। श्री मुर्सी के परिवार को भी इसकी कोई जानकारी नहीं थी। मोहम्मद मुर्सी को गत चार नवंबर को अदालत के समक्ष पेश किया गया था। अदालत ने ही मोहम्मद मुर्सी को अपना पक्ष रखने का अधिकार दिया है, जिसके बाद यह पत्र सामने आया है।

श्री मुर्सी ने देशवासियों के नाम आज जारी अपने पत्र में लिखा है.. मिस्र के दयालु लोगों को यह जानना चाहिए कि गत दो जुलाई से पांच जुलाई तक रिपब्लिकन गार्ड ने  मुझे जबरन अगवा करके बंधक बनाया था। इसके बाद मुझे और मेरे सहयोगियों को जबरन चार महीने तक नौसेना के एक ठिकाने में बंधक बनाकर रखा गया। उल्लेखनीय है कि रिब्लिकन गार्ड राष्ट्रपति आवास की सुरक्षा के लिये जिम्मेदार होते हैं।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You