Subscribe Now!

चोगम में मनमोहन की हिस्सेदारी नही होना भारत का फैसला: कैमरन

  • चोगम में मनमोहन की हिस्सेदारी नही होना भारत का फैसला: कैमरन
You Are HereInternational
Thursday, November 14, 2013-3:40 PM

नर्इ दिल्लीः ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने कहा है कि कोलंबो में होने वाले राष्ट्रमंडल शिखर सम्मेलन में भारतीय प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह की हिस्सेदारी नहीं होने का फैसला भारत का फैसला है। उनका मानना है कि इस तरह बहुपक्षीय मंचों में हिस्सेदारी से वहां के मानवाधिकार हनन आदि जैसे तमाम मुद्दों को दुनिया के सामने लाने में मदद मिलती है।

कैमरन ने आज भारत की एकदिवसीय संक्षिप्त यात्रा में यहां (प्रबोधन) शिखर नेताओं के शिखर सम्मेलन में सवालों के जवाब में यह बात कही।  उन्होंने एक सवाल के जवाब में स्वीकार किया कि इस तरह की बैठकों में हिस्सेदारी से बड़ा संदेश जाता है कि वहां मानवाधिकारों के उललंघन ,तमिल अल्पसंख्यकों पर ज्यादतियों, पत्रकारों की आजादी जैसे तमाम आरोपों की सही तरह से जांच होनी चाहिए। उन्होंने कहा वे श्रीलंका यात्रा के दौरान श्रीलंका के उत्तरी प्रांत का भी दौरा करेंगें .वैसे वहां चुनाव जैसे कुछ सकारात्मक कदम उठाये गए है।  आपसी मेल मिलाप की प्रक्रिया वहां शुरु हुयी है जो जारी रहनी  चाहिए।

गौरतलब है कि तमिलनाडु के प्रमुख राजनैतिक दलों सहित कांग्रेस पार्टी के कुछ प्रमुख नेताओं ने श्रीलंका में मानवाधिकारों के उल्लंघन व तमिलों को अधिकार नही दिये जाने के विरोध स्वरप प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह के कोलंबों जाने के प्रस्ताव पर गहरा एतराज जताया था। जिसके बाद सरकार ने इस शिखर बैठक में प्रधानमंत्री की बजाय विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद को बैठक में प्रतिनिधित्व का कार्य भार सौंपा।  बैठक 15-16 को कोलंबों में हो रही है।
 

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You