बांग्लादेश के एक और दल ने चुनावों का बहिष्कार किया, अनिश्चितताएं बढ़ीं

  • बांग्लादेश के एक और दल ने चुनावों का बहिष्कार किया, अनिश्चितताएं बढ़ीं
You Are HereInternational
Tuesday, December 03, 2013-11:28 PM

ढाका: बांग्लादेश की अवामी लीग नीत गठबंधन को आज उस समय बड़ा झटका लगा जब उसके एक घटक दल ने आम चुनावों का बहिष्कार करने का फैसला किया। मुख्य विपक्षी बीएनपी ने इन चुनावों में भाग लेने से इंकार किया था जिससे पांच जनवरी को चुनावों की विश्वसनीयता पर सवाल खड़े हो गये।

चुनाव टालने की मांग को लेकर विपक्ष के प्रदर्शनों के दौरान राजनीतिक हिंसा जारी रही जिसमें आज पांच लोगों की मौत हो गई और मरने वालों की कुल संख्या 35 पहुंच गई। पूर्व राष्ट्रपति हुसैन मोहम्मद इरशाद ने कहा कि देश की तीसरी सबसे बड़ी पार्टी और अवामी लीग की एक प्रमुख सहयोगी पार्टी जातीय पार्टी पांच जनवरी को होने वाले चुनाव में हिस्सा नहीं लेगी। उन्होंने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘हम चुनाव में हिस्सा नहीं लेंगे’’ उन्होंने अपने इस चौंकाने वाले निर्णय के लिए ‘‘माहौल’’ की कमी को जिम्मेदार ठहराया।

उन्होंने कहा कि मैंने पहले ही वादा किया था कि सभी बड़े राजनीतिक दलों के चुनाव लडऩे की स्थिति साफ नहीं होने तक मैं चुनावों में भाग नहीं लूंगा। मैं अपने वादे पर कायम हैं। इरशाद ने कहा कि मैं चुनाव नहीं लड़ूंगा। देश आपदा के मुहाने पर है। हम अनिश्चितताओं की ओर बढ रहे हैं। इरशाद ने कहा कि नामांकन पत्र दायर कर चुके उनकी पार्टी के उम्मीदवारों को चुनाव आयोग द्वारा नाम वापस लेने की आखिरी तिथि से पहले अपना नाम वापस लेने के लिए कहा गया है।

उनकी यह घोषणा नामांकन की आखिरी तिथि के एक दिन बाद आई है। उन्होंने ऐसा बीएनपी के नेतृत्व वाले 18 दलीय विपक्ष के रास्ते पर चलते हुए किया है। मुख्य विपक्षी बीएनपी और उसके दक्षिणपंथी सहयोगी जमात ए इस्लामी चुनावों में भाग नहीं लेने के अपने फैसले की घोषणा पहले ही कर चुके हैं। सत्ताधारी अवामी लीग और बांग्लादेशी नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) के बीच चुनाव कराने की प्रणाली को लेकर टकराव चल रहा है।

प्रधानमंत्री शेख हसीना ने बहुदलीय पार्टी की अंतरिम सरकार गठित की है जबकि बीएनपी चाहती है कि चुनाव एक गैर दलीय अंतरिम सरकार के तहत कराये जाएं। अवामी लीग ने अब तक जातीय पार्टी के फैसले पर केाई प्रतिक्रिया नहीं दी है लेकिन पार्टी के एक वरिष्ठ नेता और संचार मंत्री ओबैदुल कादिर ने संवाददाताओं से कहा कि हमें नामांकन पत्र वापस लेने के अंतिम दिन तक का इंतजार करना चाहिए। कादिर ने कहा कि राजनीतिक गतिरोध दूर करने की प्रक्रिया अब भी चल रही है और अगले एक सप्ताह में राजनीतिक अनिश्चितताएं दूर हो जाएंगी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You