अमेरिका बना नौकरानी का हिमायती, 24 घंटे में दिया वीजा

  • अमेरिका बना नौकरानी का हिमायती,  24 घंटे में दिया वीजा
You Are HereInternational
Thursday, December 19, 2013-12:54 PM

नई दिल्ली: लोगों को वीजा देने में नाकों चने चबवा देने वाले अमेरिका की संगीता रिचर्ड के पति और दो बच्चों को वीजा देने की प्रक्रिया आश्चर्यचकित करने वाली है। अमेरिकी दूतावास ने महज 24 घंटों में इस प्रक्रिया को निपटा दिया और ठीक 48 घंटों के बाद रिचर्ड परिवार के न्यूयॉर्क पहुंचते ही देवयानी खोब्रागड़े को वीजा धोखाधड़ी के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया।

भारत 24 घंटों में निपटाई गई इस वीजा प्रक्रिया से हैरान है और इसे महिला राजनयिक के खिलाफ गहरी साजिश के रूप में देख रहा है। अपमानजनक गिरफ्तारी से आहत भारत ने इस बात का साफ संकेत दिया है कि वह राजनयिक को आरोपमुक्त करने की शर्त से पीछे हटने वाला नहीं।

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद का इस मामले में लहजा भी काफी सख्त है। पहले अमेरिका पर जवाबी और सख्त कूटनीतिक हमले के बाद महिला राजनयिक को संयुक्त राष्ट्र के स्थाई मिशन से जोड़ कर भारत ने मामले का जल्द निपटारा न होने पर और कड़े कदम उठाने के संकेत दिए हैं।

गौरतलब है कि गिरफ्तारी से ठीक दो दिन पहले महज 24 घंटे में वीजा उपलब्ध करा दिया गया। 10 दिसंबर को नौकरानी का पति अपने बच्चों के साथ न्यूयॉर्क रवाना हुआ और इसके 48 घंटे बाद देवयानी को गिरफ्तार कर लिया गया।

अमेरिका ने गिरफ्तार करने से पहले बिएना समझौते का खुला उल्लंघन किया। दूतावास को न तो समन भेजा, न ही राजदूत को घटना से अवगत कराया। इससे पहले फरार नौकरानी के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट होने के बावजूद उसे ढूंढने में मदद नहीं की।

भारत ने राजनयिक को दोबारा गिरफ्तारी से बचाने के लिए उसे पूर्ण राजनयिक का दर्जा भी उपलब्ध करा दिया है। फिलहाल भारत इस घटना के विरोध में उठाए गए अपने कदमों पर अमेरिका के रुख के इंतजार कर रहा है। माना जा रहा है कि ऐसा अमेरिका के खिलाफ कुछ और सख्त निर्णय करने से पहले की तैयारी है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You