ऑस्ट्रेलिया में विश्व का पहला Standing Classroom हुआ लांच

  • ऑस्ट्रेलिया में विश्व का पहला Standing Classroom हुआ लांच
You Are HereInternational
Thursday, December 26, 2013-12:08 PM

मेलबर्न: ऑस्ट्रेलिया में एक ऐसे स्कूल की शुरुआत की गई है, जहां विद्यार्थियों को खड़े होकर पढ़ाया जाएगा। ऐसा सजा के तौर पर नहीं, बल्कि इसलिए किया जाएगा ताकि वे स्वस्थ रहें। ऑस्ट्रेलिया के एक प्राइमरी स्कूल ने बच्चों में मोटापे की बढ़ती अनोखी दर से चिंतित होकर यह पहल की है। इस स्कूल ने क्लासरूम का सिस्टम कुछ ऐसे ही बनाया है, जिसमें बच्चों को खड़े होकर ही पढ़ना होगा। यानी यहां पर दुनिया के पहले स्टैंडिंग क्लासरूम की शुरुआत की गई है।

मोंट अल्बर्ट प्राइमरी स्कूल में छठवीं क्लास के बच्चों के लिए क्लासरूम में ऐसी डेस्क लगाई गईं हैं, जिसे बच्चे अपनी इच्छा अनुसार एडजस्ट कर सकते हैं। यह सिस्टम एक एक्सपेरिमेंट के बाद ही चलाया जा रहा है। बेकर आईडीआई हार्ट एंड डायबीटीज इंस्टिट्यूट के रिसर्चर ने इस सिस्टम को बनाया है। इस तरह की डेक्स दिए दो महीने हो गए हैं और ज्यादातर बच्चों ने खड़े होकर पढ़ाई करने का ऑप्शन चुना है।

इसके साथ ही जो बच्चे खड़े होकर पढ़ाई करते हैं, रिसर्चर उनकी मॉनिटरिंग करके उनकी हेल्थ, फिटनेस, लर्निंग और मेमरी बेहतर के बारे में पता लगाएंगे। इसके अलावा डेस्क पर ऐसी डिवाइस भी लगी रहेंगी, जिनसे पता लगेगा कि बच्चा कितनी देर बैठकर पढ़ता रहा था। इंस्टिट्यूट में फिजिकल एक्टिविटी रिसर्च के हेड प्रोफेसर डेविड डंस्टन का कहना है कि स्कूल में अधिक समय तक बैठे रहने से बच्चों को नुकसान होता है और इस स्टैंडिंग क्लासरूम का मकसद इस नुकसान को ही कम करना है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You