राजद्रोह मामला: मुशर्रफ को अदालत में पेशी से छूट

  • राजद्रोह मामला: मुशर्रफ को अदालत में पेशी से छूट
You Are HereInternational
Monday, January 06, 2014-9:22 PM

इस्लामाबाद: पाकिस्तान की एक विशेष अदालत ने राजद्रोह मामले में पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ को सोमवार को अदालत में पेश होने से छूट देने की अर्जी मंजूर कर ली। डॉन ऑनलाइन की खबर के मुताबिक, मामले की सुनवाई मंगलवार तक के लिए स्थगित करते हुए अदालत ने मुशर्रफ की चिकित्सा रिपोर्टें अदालत के समक्ष पेश करने का आदेश भी दिया।

न्यायमूर्ति फैसल अरब की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय खंडपीठ ने मुशर्रफ के खिलाफ राजद्रोह मामले की सुनवाई शुरू की। सरकार ने मुशर्रफ पर आपातकाल की घोषणा कर और बड़ी अदालतों के न्यायाधीशों को हिरासत में लेकर देश में नकारात्मक अशांति फैलाने, कार्यवाहियों को निलंबित रखने, जरूरी मुद्दों को ठंडे बस्ते में डालने तथा संविधान के खिलाफ साजिश रचने का आरोप लगाया है।

अदालत ने मुशर्रफ के वकील से मामले की सुनवाई के समय अपने मुवक्किल की गैरहाजिरी के संबंध में बयान पेश करने को कहा। मुशर्रफ के वकील अनवर मंसूर ने कहा कि वह अपने मुवक्किल से मिलने में सक्षम नहीं हैं और उन्हें उनकी गैरहाजिरी के संबंध में कोई जानकारी नहीं है। वकील ने कहा कि मुशर्रफ की सेहत के बारे में सबको पता है, शायद इसीलिए वह सुनवाई के समय अदालत में हाजिर नहीं हो पाए। उन्होंने रविवार को कहा था कि उनके मुवक्किल अस्वस्थ हैं और वह सोमवार को अदालत के समक्ष हाजिर नहीं होंगे।

विशेष अदालत ने एक जनवरी को चेतावनी दी थी कि पूर्व सैन्य शासक यदि दो जनवरी को अदालत में पेश नहीं हुए तो उनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी की जा सकती है। इसके बाद से 10 दिनों के भीतर मुशर्रफ दो तारीखों पर अदालत में पेश नहीं हुए। सरकार ने 17 नवंबर को पूर्व सेना प्रमुख पर राजद्रोह का औपचारिक अभियोग लगाने की घोषणा की थी। सोमवार सुबह इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने अभियोजन पक्ष की वह याचिका खारिज कर दी, जिसमें मुशर्रफ को इलाज के लिए विदेश जाने से रोकने की मांग की गई थी।

मुशर्रफ ने वर्ष 1999 में एक रक्तहीन तख्तापलट में सत्ता हासिल की थी। वह 2001 से 2008 तक राष्ट्रपति रहे। बाद में वह लंदन जाकर आत्मनिर्वासित जीवन बिताने लगे। मार्च 2013 में संसदीय चुनाव लडऩे के लिए वह इस्लामाबाद लौटे, मगर एक अदालत ने उन्हें अयोग्य करार दे दिया। मुशर्रफ को पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो की हत्या सहित चार बड़े मामलों में जमानत मिल चुकी है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You