दक्षिण एशियाई अधिकार संगठन ने खोबरागड़े की नौकरानी का समर्थन किया

  • दक्षिण एशियाई अधिकार संगठन ने खोबरागड़े की नौकरानी का समर्थन किया
You Are HereInternational
Sunday, January 12, 2014-1:04 PM

वाशिंगटन: अमेरिका में दक्षिण एशियाई अधिकार संघों का एक संगठन भारतीय राजनयिक देवयानी खोबरागड़े की नौकरानी संगीता रिचर्ड के समर्थन में उतर आया है, जिसने दावा किया था कि देवयानी के लिए काम करने के दौरान उसे काफी कष्ट झेलने पड़े।

करीब चार दर्जन अधिकार संघों के संगठन ‘नेशनल कोएलिशन आफ साउथ एशियन आर्गेनाइजेशंस’ (एनसीएसओ) ने कहा, ‘‘हम संगीता रिचर्ड के साथ हैं और हम समुदाय के सदस्यों का आह्वान करते हैं कि वे उसका और देशभर में घरेलू कामगारों का समर्थन करें।’’

एनसीएसओ ने कल एक बयान में नीति निर्धारकों और सरकारी एजेंसियों से आग्रह किया वे ऐसी नीतियां बनाएं और उन्हें क्रियान्वित करें जिससे घरेलू कामगारों के अधिकारों की रक्षा हो सके। वैसे ही जैसे इस मामले में अटॉर्नी कार्यालय और न्याय विभाग ने किया।

एनसीएसओ ने खोबरागड़े के खिलाफ कथित रूप से वीजा धोखाधड़ी और गलत जानकारी देने के लिए अमेरिकी अटॉर्नी  प्रीत भरारा द्वारा लगाए गए अभियोग को ग्रैंड जूरी द्वारा पुष्टि किए जाने का उल्लेख किया और कहा कि संगीता प्रति सप्ताह कम से कम 100 घंटे काम करती थी और उसे 1.42 डॉलर प्रति घंटे का वेतन भुगतान किया जाता था।

इस बीच उत्तर अमेरिका में दक्षिण एशियाई अटॉर्नी के शीर्ष संगठन ने राजनयिक मामले में कोई भी पक्ष लेने से इनकार कर दिया। साउथ एशियन बार एसोसिएशन आफ नॉर्थ अमेरिका ने जारी एक बयान में कहा, ‘‘जहां गलत काम करने का आरोप लगता है। वहां कानून का पालन होना चाहिए, लेकिन वे नियम हर देश में अलग-अलग होते हैं।’’
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You