सीरिया पर 11000 बंदियों की हत्या करने का आरोप

  • सीरिया पर 11000 बंदियों की हत्या  करने का आरोप
You Are HereInternational
Wednesday, January 22, 2014-11:59 AM

लंदन: सीरिया के सरकार पर देश में चल रहे गृहयुद्ध के दौरान लगभग 11000 कैदियो को  अमानवीय यातना दे कर मारने का गंभीर आरोप लगाया है। सीरिया में युद्ध अपराधो की जांच कर रहे तीन अभियोजको की रिपोर्ट से इस बात का खुलासा हुआ है। जांचकर्ताओं ने मृतकों की तस्वीरो का अध्ययन करके इस नतीजे पर पहुंचे है कि जांचकर्ताओ ने इस हत्याकांड की तुलना  द्वितीय विश्व के दौरान जर्मनी के नाजियो के द्वारा किए गए हत्या से की है।

अभियोजको को  मारे गए कैदियों की ये तस्वीर सीरियाई सेना के सैन्य पुलिस के एक फोटोग्राफर में मुहैया कराया है। यह फोटोग्राफर अब राष्ट्रपति की वफादार फौज के साथ संघर्ष कर रहे विद्रोहियों के  खेमें शामिल हो गया है।  इस फोटोग्राफर ने मारे गये कैदियो की कुल 55000 चित्र उपलब्ध कराए है।

अभियोजको के अनुसार, इन कैदिया को बहुत बेरहमी से पहले प्रताडि़त किया गया और फिर भयंकर यंत्रणा देकर इन्हे मार दिया गया। इनमे कुछ को बिजली के झटको से, गला घोंटकर मारा गया। चित्र में कुछ कैदियों की आंखो को निकला हुआ और शवो को क्षत-विक्षत अवस्था मे दिखाया है।

उल्लेखनीय है कि यह रिपोर्ट ऐसे समय जारी हुआ है, जब स्विटजरलैंड में सीरिया संकट के समाधान निकालने के लिए बैठक होने वाली है। अमेरिका और उसके पश्चिमी सहयोगी देश सीरिया के राष्ट्रपति बशर-अल-असद के खिलाफ  अंतर राष्ट्रीय युद्ध न्यायालय में सीरिया में चल रहे ङ्क्षहसा और बड़े पैमाने पर हुए मौत के लिए जिम्मेदार मानते हुए उन पर युद्ध अपराध का मुकदमा चलाने की पुरजोर मांग कर रहे है।

वहीं रूस और ईरान असद को अपना पूर्ण सर्मथन देते आ रहें है। इन दोनो देशों का मानना है कि असद की फौज आतंकवादियों के साथ लोहा ले रही है। सीरिया मे जांच कर रहे जांच दलो ने कहा कि इस  31 पन्नो की रिपोर्ट से के  बात के पुख्ता सबूत मिलते है कि सीरिया सरकार के इस हत्यकांड में सक्रिय भागीदारी थी, जबकि सीरिया ने इस रिपोर्ट को सिरे से खरिज करते हुए इसमे अपनी किसी तरह की भागीदारी से इंकार किया है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You