10 वर्षीय बालिका वधू की दर्दभरी दास्तां

  • 10 वर्षीय बालिका वधू की दर्दभरी दास्तां
You Are HereInternational
Saturday, January 25, 2014-1:13 PM

लंदन: आपने विवाह से जुड़ी बहुत सारी फिल्में और ढेरों कहानियां सुनी होंगी, लेकिन ये न तो कोई कहानी हैं और न ही कोई फिल्म यह एक महिला की आप-बीती है, जो आपको हैरान कर देगी।

उस समय अलेमत्साहये गेबरेकिडन की आयु केवल 10 वर्ष की थीं। घर के बाहर खेल रही 10 साल की अलेमत्साहये को उनकी मां ने आवाज देकर बुलाया और उनकी शादी हो गई। वह कहती हैं कि वह चाह कर भी यह भूल नहीं सकती कि वह दिन उसकी बर्बादी का दिन था।

डेली मेल की खबर के अनुसार, आज उनकी आयु 38 वर्ष है। उन्होंने बताया कि शादी की बात सुन कर वह रोने लगी और उनकी शादी 16 साल के लड़के के साथ हुई थी। 13 वर्ष की आयु उन्होंने एक बच्चे को जन्म दिया और 14 वर्ष की आयु में वह विधवा हो गई। वह मूल रूप से इथोपिया की रहने वाली हैं। उन्होंने कहा कि शादी ने उनकी जिंदगी बर्बाद कर दी। उन्हें स्कूल छोड़ना पड़ा और वो सबकुछ जो उन्हें पसंद था। फिलहाल अब वह लंदन में रहती हैं और एक बेहतर जिंदगी के लिए प्रयासरत हैं, लेकिन अपने माता-पिता के लिए उनका गुस्सा अभी भी कम नहीं हुआ है।

वर्ल्ड हेल्‍थ ऑर्गेनाइजेशन के अनुसार, दुनियाभर में लगभग 15 वर्ष की 14.2 मिलियन लड़कियों को हर साल शादी के बंधन में बांध दिया जाता ‌है, जोकि ज्यादातर भारत, मध्य एशिया, इथोपिया जैसे देशों से होती हैं। शारीरिक और मानसिक बोझ उठाने में अक्षम इन बच्चियों को जिंदगीभर के लिए एक अंधेरे कुंए में धकेल दिया जाता है और ज्यादातर लड़कियों की मौत हो जाती है। हालांकि मानवाधिकारों समूहों द्वारा इनके विरूद्ध आवाज उठाई गई है, लेकिन फिर भी कई इलाकों में ये अब भी प्रचलन में है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You