अमेरिका के साथ द्विपक्षीय सुरक्षा समझौता विफल होने के करीब: करजई

  • अमेरिका के साथ द्विपक्षीय सुरक्षा समझौता विफल होने के करीब: करजई
You Are HereInternational
Saturday, January 25, 2014-6:16 PM

काबुल: अफगानिस्तान के राष्ट्रपति हामिद करजई ने आज कहा कि अमेरिका के साथ उनके देश का प्रस्तावित द्विपक्षीय सुरक्षा समझौता विफल होने के करीब है। इसके अंतर्गत नाटो की सेनाओं की वापसी के बाद भी कुछ अमेरिकी सैनिकों के यहां रूकने का प्रावधान है।

करजई ने काबुल में संवाददाताओं से कहा कि वह किसी दबाव में आकर न तो कोई बात स्वीकार करेंगे और न ही किसी समझौते पर हस्ताक्षर करेंगे। उन्होंने कहा कि द्विपक्षीय सुरक्षा समझौते से पहले अमेरिका को तालिवान उग्रवादियों के साथ वास्तविक शांति प्रक्रिया शुरू करनी होगी और अपनी सैनिक कार्रवाई बंद करनी होगी।

पिछले वर्ष लोया जिरगा द्वारा इस समझौते को स्वीकृति दे दिए जाने के बावजूद करजई ने इसके ऊपर हस्ताक्षर नहीं किया था। उन्होंने यह भी कहा था कि पांच अप्रैल के राष्ट्रपति के चुनाव के बाद उनका उत्तराधिकारी ही इस समझौते के बारे में निर्णय करेगा। उन्होंने कहा कि अगर अमेरिका जाना चाहता है तो जाएं हम अपनी जिन्दगी जी लेंगे। समझौते के लिए उसे व्यावहारिक शांति प्रक्रिया शुरू करनी पड़ेगी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You