शरिया कानून के बगैर वार्ता संभव नहीं: तालिबान

  • शरिया कानून के बगैर वार्ता संभव नहीं: तालिबान
You Are HerePakistan
Thursday, February 06, 2014-12:15 PM

इस्लामाबाद: पाकिस्तान सरकार के साथ बातचीत करने के लिए तालिबानी विद्रोहियों का प्रतिनिधित्व करने वाले वार्ताकारों ने बुधवार को कहा कि पाकिस्तान में तब तक शांति स्थापित नहीं हो सकती, जब तक सरकार इस्लामी शरिया कानून एवं अमेरिकी नेतृत्व वाली सेना को अफगानिस्तान से हटाने को इसमें शामिल नहीं करेगी।

मंगलवार को शुरू होने वाली शांति समझौते पर प्रारंभिक बातचीत सरकार के प्रतिनिधिमंडल के तालिबानी वार्ताकारों से मिलने से इनकार के बाद विफल हो गई थी। एक वार्ताकार ने कहा कि तालिबान शरिया कानून को शामिल किए बगैर बातचीत को नहीं स्वीकार करेगा।
 

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You