मरीनों पर 'समुद्री डकैती विरोधी अधिनियम' के प्रयोग से हैरान हैं: बोनिनो

  • मरीनों पर 'समुद्री डकैती विरोधी अधिनियम' के प्रयोग से हैरान हैं: बोनिनो
You Are HereInternational News
Sunday, February 09, 2014-7:49 PM

रोम: इटली की विदेश मंत्री एम्मा बोनिनो ने कहा है कि दो भारतीय मछुआरों की हत्या के आरोपी दो इतालवी मरीनों पर समुद्री डकैती विरोधी अधिनियम के तहत मुकदमा चलाने के भारत के कदम से वह ‘‘हैरान और आहत’’ है। इटली ने कहा है कि वह इसे कानूनी रूप से ‘‘कड़ी’’ चुनौती देगा। बोनिनो ने कहा, ‘‘हमारे मरीनों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई के बारे में नई दिल्ली से मिल रहे कुछ संकेतों ने हमें हैरान और आहत किया है।’’

इतालवी मीडिया ने कल उनके हवाले से कहा, ‘‘मासिमिलिआनो लातौरे और सेल्वातोर गिरोने को घर वापस लाने की हमारी प्रतिबद्धता पहले से अधिक मजबूत हुई है।’’ उनकी यह टिप्पणी भारतीय गृह मंत्रालय के उस कदम की पृष्ठभूमि में आयी है जिसमें मंत्रालय ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी को इतालवी मरीनों के खिलाफ कुछ नए कानूनों के प्रावधानों के तहत मुकदमा चलाने की मंजूरी दी है। इस नए कानून में मौत की सजा तक का प्रावधान है लेकिन भारत ने पिछले सप्ताह दोनों मरीनों को मौत की सजा की संभावना से अलग कर दिया था और इसके लिए जांच एजेंसी से कहा गया था कि उनके खिलाफ हत्या के आरोपों को हिंसा के आरोपों के रूप में हल्का कर दिया जाए।

इतालवी समाचार एजेंसी ‘एगेंजिया जिओनालिस्टिका’ ने बोनिनो के हवाले से कहा कि अगर इस बात की पुष्टि होती है कि मरीनों पर एसयूए कानून की धाराएं लगाने का आग्रह किया गया है तो इसे कड़ाई से अदालत में चुनौती दी जाएगी। बोनिनो की टिप्पणियां ऐसे समय आई हैं जब उच्चतम न्यायालय में कल इस मामले में सुनवाई होनी है। इससे पहले, उन्होंने कड़े शब्दों में कहा कि मुकदमे का सामना कर रहे दो इतालवी मरीन ‘‘न तो आतंकवादी हैं और न ही समुद्री डकैत।’’

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You