फेसबुक पर वायरल हुआ महिला का सेक्सी विज्ञापन निकला नकली, मचा बवाल

  • फेसबुक पर वायरल हुआ महिला का सेक्सी विज्ञापन निकला नकली, मचा बवाल
You Are HereInternational
Thursday, March 06, 2014-3:22 PM

नई दिल्ली: आजकल हर तरफ सोशल मीडिया का ही बोल-बाला है, लेकिन जहां एक तरफ इसके बहुत सारे फायदे हैं, वहीं इसके नुकसान भी कुछ कम नहीं हैं। ऐसे बहुत सारे किस्से आपने भी सुने होंगे कि किसी ने फर्जी फोटो या संदेश इंटरनेट पर डाल दिया, वह वायरल हो जाए और लोग उस पर बरसने लगें हो। पहले ऐसी घटना व्यक्तिगत ही हुआ करती थीं, लेकिन एक जानी-मानी कंपनी भी इसका शिकार होने से बच न पाई।

दरअसल पूरा मामला कुछ यूं था कि  ब्रिटेन की मशहूर कार कंपनी 'एस्टन मार्टिन' सोशल मीडिया के निशाने पर आ गई, जिसका कारण था सेकेंड हैंड कारों का एक विवादास्पद फोटो विज्ञापन। विज्ञापन में महिला न मात्र कपड़ों में खड़ी दिखाई दे रही है और वहीं साथ में लिखा है, 'आप जानते हैं कि आप पहले शख्स नहीं हैं, पर क्या सच में आप इसकी परवाह करते है?'

यह बात तो साफ जाहिर हो रही है कि यह सेक्स और वर्जिनिटी को लेकर किया गया कमेंट था, ताकि लोग सेकेंड हैंड कारों को खरीदने के लिए उत्साहित हो, लेकिन विज्ञापन के सोशल मीडिया में आते ही कंपनी की आलोचना शुरू हो गई लोगों को यह विज्ञापन आपत्तिजनक लगा। आलोचकों का कहना था कि यह विज्ञापन महिला विरोधी और दकियानूसी विचारों वाला है और औरत की वर्जिनिटी को संकीर्ण अर्थों में पेश करता है।

हाल ही में रांझना फेम एक्ट्रेस स्वरा भास्कर ने फेसबुक पर लिखा, 'मुझे हंसी नहीं आई। शायद इसलिए कि मैं कार नहीं हूं, न हो पाऊंगी। न ही मैं वह हूं,जिसे कोई पहले इस्तेमाल कर ले, फिर कोई और। मेरा कोई मालिक नहीं है, इसलिए मैं 'प्री-ओन्ड' नहीं हो सकती और एक, दो, तीन कोई गिनती नहीं हो सकती उन लोगों की, जिनके साथ मैं सेक्स कर सकती हूं, क्योंकि सेक्स प्यार और अंतरंगता की भावना है, नंबर गेम नहीं। मैं महिला हूं, इंसान हूं और मैं आहत हुई हूं। एस्टन मार्टिन एंड कंपनी, तुम्हें शर्म आनी चाहिए। यह मजाक नहीं है, यह बेवकूफाना, अश्लील और दयनीय है।'

इस पोस्ट को कई लोगों ने शेयर भी किया और कंपनी पर अपना गुस्सा निकाला, लेकिन स्टोरी में मजेदार मोड़ तब आया, जब पता चला कि बहुत पहले ही यह साफ हो चुका है कि यह विज्ञापन 'फर्जी' है। इस विज्ञापन के फर्जी होने के बहुत सारे लेख पहले ही इंटरनेट पर मौजूद हैं। इसमें बताया गया कि किसी ने जानबूझकर कंपनी का 'लोगो' लगा कर यह शरारत की है और जल्दबाजी में उसने 'प्री ओन्ड' की स्पेलिंग भी गलत लिखे है।

जिससे यह तो जाहिर है कि एक अंतरराष्ट्रीय कंपनी से अपने विज्ञापन में गलत स्पेलिंग लिखने की अपेक्षा नहीं की जाती। इतना ही नहीं, गूगल इमेज में सर्च करने से ऐड में दिख रही तस्वीर की असलियत भी सामने आ जाती है। यह तस्वीर प्लेब्वॉय जर्मनी मैगजीन के जनवरी 2012 संस्करण से ली गई है। तस्वीर में दिख रही मॉडल नीदरलैंड की रोसेन जॉन्गेनेलेन हैं, लेकिन इंटरनेट से किसी चीज को पूरी तरह गायब कर देना काफी मुश्किल काम होता है और लोग आज भी इस फर्जी विज्ञापन के झांसे में आ जाते हैं।

मजे की बात यह है कि 'आप जानते हैं कि आप पहले शख्स नहीं हैं, पर क्या सच में आप इसकी परवाह करते है', यह टैगलाइन विज्ञापन की दुनिया में नई नहीं है। 2008 में कारमेकर कंपनी बीएमडब्ल्यू इसी टैगलाइन से एक विज्ञापन बना चुकी है। वह विज्ञापन असली था और लेकिन उस पर कोई बवाल नहीं हुआ।              

2011 में ओन्टैरियो के एक डीलरशिप ने अपनी सेकेंड हैंड कारों के ऐड के लिए भी इसी टैगलाइन से दो अलग-अलग ऐड बनाए, जिसमें एक में पुरुष मॉडल की तस्वीर थे और दूसरी में महिला की तस्वीर थी।


 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You