लापता मलेशियाई विमान हुआ था दुघर्टनाग्रस्त, कोई जिंदा नहीं बचा

You Are HereInternational
Tuesday, March 25, 2014-1:01 PM

कुआलालंपुर: मलेशिया के प्रधानमंत्री नजीब रजाक ने सोमवार को नए उपग्रह डेटा का हवाला देते हुए कहा कि पिछले 17 दिनों से लापता विमान ‘मलेशिया एयरलाइंस जेट’ दक्षिणी हिंद महासागर में दुर्घटनाग्रस्त हो गया और इसमें कोई जिंदा नहीं बचा। इस विमान में हादसे के वक्त पांच भारतीयों सहित 239 लोग सवार थे। इस बारे में यात्रियों के परिजनों को भी सूचना दे दी गई है।

रजाक ने विशेष रूप से बुलाए गए संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘काफी दुख के साथ आपको सूचित करना चाहता हूं कि नए डेटा के अनुसार, उड़ान एमएच 370 का दक्षिणी हिंद महासागर में अंत हो गया।’’

यह घोषणा दक्षिण हिंद महासागर में अंतरराष्ट्रीय खोज प्रयासों के पांचवें दिन की गई। आस्ट्रेलिया और चीन के विमानों ने पर्थ के पश्चिम में 2500 किलोमीटर की दूरी पर कई तैरती हुई वस्तुएं देखी थीं। आठ मार्च को लापता हुए बोइंग 777-200 के मलबे के बारे में अभी आधिकारिक रूप से कुछ नहीं कहा गया है। नजीब ने कहा कि वह कल संवाददाता सम्मेलन बुलाएंगे। इस दौरान विमान के बारे में ज्यादा जानकारियां दिए जाने की संभावना है।

उन्होंने कहा कि ब्रिटिश उपग्रह कंपनी ‘इनमारसैट’ की ओर से मुहैया कराई गई सूचना के आधार पर हम इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि विमान दक्षिणी कोरिडोर की ओर उड़ा था और उसका आखिरी स्थान दक्षिणी हिंद महासागर के मध्य में था। उन्होंने कहा कि यह सुदूरवर्ती स्थान है और जमीन पर विमान के उतरने के संभावित स्थल से दूर है।

उन्होंने कहा कि मलेशिया एयरलाइंस के अधिकारियों ने यात्रियों के परिजनों से बात की है और उन्हें नई बातों से अवगत कराया है। मलेशिया एयरलाइंस के विमान बोइंग 777-200 ने बीते आठ मार्च को उड़ान भरी थी और इसके कुछ देर बाद यह लापता हो गया था। इसमें पांच भारतीय नागरिकों सहित 239 लोग सवार थे। (एजेंसी)


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You