ऐसी भी क्या मजबूरी जो 87 जिंदा और 20 मरे कुत्तों के साथ रहती थी ये महिला

  • ऐसी भी क्या मजबूरी जो 87 जिंदा और 20 मरे कुत्तों के साथ रहती थी ये महिला
You Are HereInternational
Thursday, April 03, 2014-10:48 AM

नई दिल्लीः डिप्रैशन यानि की तनाव एक ऐसी बीमारी है, जिसमें तनाव से पीड़ित व्यक्ति को यह पता ही नहीं चलता कि वह क्या कर रहा हैं या किस हालात में जी रहा है। कई बार यहीं तनाव उनकी जिंदगी के लिए जानलेवा भी साबित हो जाता है। इस महिला की कहानी भी इसी से जुड़ी हुई है। ताजूब तो तब होता हैं जब इस महिला के साथ क्या चल रहा है इस बात की भनक भी किसी को नहीं लगी।

मामले के खुलासा तब हुआ, जब किसी ने पुलिस को महिला के घर से जानलेवा बदबू आने की शिकायत की। जब पुलिस वहां पहुंची तो उनका उस बात पर यकीन करना काफी मुश्किल था, लेकिन जो भी था बिल्कुल सच था। महिला के घर का जो हाल था, उसे देख सबका मुंह खुला का खुला ही रह गया।

डेली मेल के मुताबिक, इस महिला के घर में सौ से ज्यादा कुत्ते थे। पैरों तले जमीन खिसकाने वाली बात यह थी कि उसमें से 20 कुत्ते मरे हुए थे और सड़ रहे थे। इतना ही नहीं, कुछ कुत्ते महिला के फ्रिज में भी पाए गए। इस बात पर यकीन करना काफी मुश्किल था कि 54 वर्षीय महिला उस घर में किस तरह रह रही थी।

लोगों का कहना है कि उन्हें इस बात का जरा भी अंदाजा नहीं था कि वहां उस बड़े मकान में कोई महिला इस हालत में रह रही होगी। उनका कहना था कि उन्हें वहां से जानलेवा बदबू तो आती थी, लेकिन उसके पीछे की वजह वहां रहने वाले सौ कुत्ते थे इस बारे में उन्होंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था। वह बदबू से पीछा छुड़ाने के लिए कई तरह के स्प्रे का भी इस्तेमाल करते थे, लेकिन बदबू से कभी पूरी तरह से मुक्ति नहीं मिली।

पुलिस को महिला बेहद बीमार हालत में मिली और उसके शरीर पर कुत्तों को काटने के बहुत सारे निशान थे। जीवित कुत्तों को ऐनिमल रेस्क्यू सेंटर में भेज दिया गया है। फिलहाल महिला का इलाज चल रहा है।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You