रोहिंग्याओं को बंजर टापू पर बसाने की तैयारी में बांग्लादेश

You Are HereInternational
Tuesday, September 12, 2017-2:12 PM

ढाका: म्यामां में हिंसा के बाद वहां से भागे हजारों रोहिंग्या मुस्लिम शरणार्थियों को बांग्लादेश के एक बंजर द्वीप पर अपना नया आशियाना बसाने पर मजबूर होना पड़ सकता है। उस द्वीप पर हर साल बाढ़ आती है।
PunjabKesari
बांग्लादेश सरकार ने रोहिंग्या मुस्लिमों को उस द्वीप पर पहुंचाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय मदद की अपील की है क्योंकि म्यामां के रखाइन प्रांत में सैन्य कार्रवाई के बाद से गरीबी से जूझ रहे बांग्लादेश में बड़ी संख्या में रोहिंग्या मुस्लिम शरण की आस में पहुंच रहे हैं और उन्हें बसाने को लेकर अधिकारियों को संकट का सामना करना पड़ रहा है।
PunjabKesariरखाइन प्रांत में गत 25 अगस्त से शुरू हुए हिंसा के नए दौर के बाद से बांग्लादेश में 3 लाख से अधिक रोहिंग्या लोग आ गए है। लगभग 3 लाख शरणार्थी पहले से ही म्यामां सीमा के निकट कॉक्स बाजार जिले में संयुक्त राष्ट्र के शिविरों में रह रहे है।
PunjabKesariम्यामां से बड़ी संख्या में शरणार्थियों के आने पर बांग्लादेश के अधिकारियों को और शिविर बनाने के लिए स्थान खोजने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। रोहिंग्या नेताओं और संयुक्त राष्ट्र के अधिकारियों के अनिच्छुक होने के बावजूद बांग्लादेश के अधिकारी गैर आबादी वाले थेनगार छार द्वीप पर भी शिविर बनाने पर विचार कर रहे हैं। इस द्वीप का हाल में नाम बदलकर भासान छार किया गया था।
PunjabKesariअधिकारियों ने रोहिंग्या शरणार्थियों को वहां बसाने का प्रस्ताव सबसे पहले वर्ष 2015 में दिया था, इसकी वजह यह थी कि और शरणार्थियों के आने से कॉक्स बाजार के शिविर ठसाठस भर गए थे।लेकिन उन खबरों के मद्देनजर योजना रद्द कर दी गई थी कि बाढ़ आते रहने के कारण वह द्वीप बसाहट योग्य नहीं है। सरकार रोहिंग्या लोगों को शरण देने के लिए नए स्थान की तलाश कर रही है। 
PunjabKesari
इसमें, म्यामां सीमा के निकट कॉक्स बाजार के करीब 2 हजार एकड़ (800 हेक्टेयर) क्षेत्र में एक नया शिविर स्थापित करने की भी योजना है जिसमे लगभग 2 लाख 50 हजार रोहिंग्या मुस्लिम रह सकेंगे। प्रधानमंत्री शेख हसीना मंगलवार को इस स्थल का दौरा करेंगी।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You