कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ जारी रहेगा सेना का अभियानः बिपिन रावत

  • कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ जारी रहेगा सेना का अभियानः बिपिन रावत
You Are HereNational
Tuesday, December 05, 2017-4:28 PM

बीकानेर: सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत का कहना है कि जम्मू-कश्मीर में आंतकवाद को रोकने के लिए सेना की ओर से लगातार अभियान चलाया जा रहा है। साथ ही वहां ऑपरेशन सद्भावना सहित अन्य गतिविधियां भी संचालित की जा रही हैं।  जनरल रावत सूरतगढ़ मिलिट्री स्टेशन पर आज आयोजित तीन रेजिमेंटों को राष्ट्रपति सम्मान ध्वज समारोह के बाद पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशरफ के इस बयान पर कि ‘‘वह (मुंबई हमले के मास्टर माइंड) हाफिज सईद का समर्थन करते हैं’’, जनरल रावत ने कहा कि आंतकवादियों को किसी भी परिस्थिति में बढ़ावा देना गलत है।

थलसेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत ने कहा कि भारतीय सेना की सभी रेजिमेंट आधुनिकीकरण के साथ तालमेल कर बेहतर कार्य कर रही हैं। सेना हर तरह की स्थिति में जवाब देने के लिए तैयार है और किसी भी तरह के हमले से डरने की जरुरत नहीं है।  उन्होंने कहा कि भारतीय सेना कि किसी भी रेजिमेंट को राष्ट्रपति सम्मान ध्वज मिलने के बाद उसकी जिम्मेदारी और अधिक बढ़ जाती है। शहीद सैनिकों के परिवारों के बच्चों की शिक्षा पर होने वाले खर्च में कटौती के एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि यह मेरे ध्यान में है। लेकिन किन्ही परिस्थितियों में शहीदों के परिजनों को उनके बच्चों की शिक्षा के लिएचिंतित होने की जरूरत नहीं है। जनरल रावत ने जम्मू-कश्मीर में आंतकवाद पर कहा कि सेना की ओर से लगातार ऑपरेशन चलाया जा रहा है।

वहीं ऑपरेशन सद्भभावना सहित अन्य गतिविधियां भी संचालित की जा रही हैं। इससे पूर्व जनरल रावत ने भारतीय सेना को राष्ट्रपति सम्मान ध्वज प्रदान किया। सेना प्रमुख ने माउंटेड परेड के बाद 87 आर्म्ड रेजीमेंट, 41 आर्म्ड रेजीमेंट और 10  आर्म्ड रेजीमेंट को राष्ट्रपति के सम्मान ध्वज से नवाजा। रक्षा प्रवक्ता लेफिटनेंट कर्नल मनीष ओझा ने बताया कि समारोह में सप्त शक्ति कमान के जनरल अफसर कमांडिग इन चीफ लेफ्टिनेंट जनरल चेरिश मैथरान, चेतक कोर के जनरल अफसर कमांडिग लेफ्टिनेंट जनरल पीसी थिमैया, सहित अनेक वरिष्ठ सैन्य अधिकारी व गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

इस समारोह की मेजबानी तीनो आर्मड रेजिमेंट के कर्नल ऑफ द रेजिमेंट जनरल विनोद शर्मा, मेजर जनरल एसएस महल व मेजर जनरल कुलप्रीत सिंह ने की।  टी 72 मेन बैटल टैंकों की गरजना के साथ भारतीय सेना की शक्ति का प्रस्तुतिकरण ब्रिगेडियर प्रवीण छाबड़ा, कमांडर सैंड वाइपर बिग्रेड के नेतृत्व में किया गया। इसी दौरान रेजिमेंट की टुकडिय़ा की अगुवाई उनके कमान अधिकारियों ने की। इन तीनों आर्मड रेजिमेंटों का राष्ट्रपति सम्मान ध्वज रेजिमेंटों के वीर सैनिकों द्वारा पिछले तीन दशकों के दौरान की गई कठिन मेहनत, आत्म बलिदान व प्रंशसीय कार्य का ही परिणाम है। ऑपरेशन और शांति के दोनों वातावरण में इन रेजिमेंटों द्वारा की गई कठिन सेवाओं का निर्वहन तथा वीर सैनिकों द्वारा किये गए उच्च बलिदान को राष्ट्रपति सम्मान ध्वज से पूर्ण पहचान मिली है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You