पद या नाम नहीं, पार्टी महत्वपूर्ण है हमारे लिए: डॉ. हर्षवर्धन

  • पद या नाम नहीं, पार्टी महत्वपूर्ण है हमारे लिए: डॉ. हर्षवर्धन
You Are HereNcr
Friday, October 18, 2013-11:41 AM

नई दिल्ली: दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा के सीएम पद के संभावित उम्मीदवार डॉ हर्षवर्धन पार्टी में चल रही खींचतान के बारे में कुछ भी बोलना नहीं चाहते। उनका कहना है कि जो भी निर्णय लिया जाना है, वह पार्टी के शीर्ष नेताओं ही लेंगे। बातचीत के दौरान जब उनसे पूछा गया कि पार्टी में उठ रहे बगावत के स्वर के बारे में क्या कहना चाहते हैं। पहले तो उन्होंने इस प्रश्न को टालना चाहा, लेकिन कुछ सोचने के बाद बोले कि मैंने  इस बारे में किसी से कुछ नहीं कहा है और न ही कुछ कहना चाहता हूं। यह पूछे जाने पर कि क्या आपका नाम सी.एम. पद उम्मीदवार के बारे चर्चा में आने के बाद पार्टी के किसी वरिष्ठ नेता से कोई बातचीत हुई है।

उनका कहना था कि किसी भी वरिष्ठ नेता ने इस बाबत उनसे कोई बातचीत नहीं की है और न ही उन्होंने किसी से सम्पर्क किया है। बातचीत के दौरान डॉ हर्षवर्धन ने साफतौर पर कहा कि हमारे लिए पार्टी सर्वोपरि है। नाम और पद का कोई महत्व नहीं है,  महत्वपूर्ण हमारे लिए पार्टी है। यह बात करते-करते  वह भावनाओं में खो गये और फिर बोले कि भाजपा डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी और दीनदयाल उपाध्याय के पद्चिन्हों पर चलने वाली पार्टी है। हमारे लिए पार्टी की विचार और नीति सबसे महत्वपूर्ण है।

इससे पूर्व डॉ. हर्षवर्धन ने वीरवार को पार्टी के डोर यू डोर चुनाव प्रचार अभियान में भाग लिया। पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ वह साढ़े तीन घंटे तक अभियान में जुटे रहे। पार्टी चुनाव प्रचार अभियान के तहत उन्होंने अपने क्षेत्र के मतदाताओं से दिल्ली की कांग्रेस सरकार के राज में हुए घोटालों के बारे में जानकारी दी। उनका कहना था कि चुनाव के बाद भाजपा की सरकार बनने पर जनता के बर्बाद किये गये पैसे का पूरा हिसाब मांगा जाएगा।

यमुनापार में कृष्णा नगर स्थित अपने चुनाव क्षेत्र में भाजपा चुनाव प्रचार अभियान के अंतर्गत पार्टी के करीब 25 कार्यकर्ताओं के साथ डॉ हर्षवर्धन सुबह करीब सवा सात बजे अपने आवास से रवाना हुए। उनके साथ पार्टी की कुछ महिला कार्यकर्ता भी थीं। घर-घर जाकर उन्होंने प्रचार किया। उन्होंने बताया कि वह पिछले 45 सालों से इसी इलाके में रह रहे हैं। इलाके 72 नम्बर पोलिंग स्टेशन की मतदाता सूची में उनका नाम दर्ज है और इसी इलाके में उनको प्रचार अभियान का जिम्मा सौंपा गया है। कार्यकताओं के साथ इलाके के अस्सी प्रतिशत मतदाताओं से सम्पर्क कर प्रचार अभियान को अंजाम दिया।

प्रचार अभियान के बाद अपने आवास पर पहुंचे। फुर्सत के क्षणों में जब उनसे भाजपा में चल रही खींचतान के बारे में पूछा गया, तो उनका साफ कहना था कि मैं फिलहाल इस मामले में किसी भी प्रकार की टिप्पणी नहीं करना चाहता। उसी दौरान इलाके के लोग कुछ काम कराने के लिए उनसे मिलने पहुंच गये। उनमें कोई उनसे राशन कार्ड बनवाने के लिए आया था और कोई सूची के बारे में बातचीत करने के लिए। डॉ हर्षवर्धन ने बताया कि रोजाना इलाके के सैंकड़ों लोग उनसे मिलने तथा अपने काम को लेकर उनसे मिलने के लिए आते हैं, लेकिन वीरवार की दोपहर से लेकर शाम तक एक हजार से अधिक लोग उनके पास अपना काम कराने के लिए पहुंचे।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You