अगर कोलगेट में बिड़ला दोषी तो पीएम क्यों नहीं?: उद्धव ठाकरे

  • अगर कोलगेट में बिड़ला दोषी तो पीएम क्यों नहीं?: उद्धव ठाकरे
You Are HereNational
Friday, October 18, 2013-2:35 PM

मुंबई: उद्धव ठाकरे ने सीबीआई पर हमला बोलते हुए कहा अगर बिरला दोषी तो पीएम क्यों नहीं? कुमारमंगलम बिड़ला के समर्थन में अब उद्धव ठाकरे उतर आए हैं। बतां दें कि कुमारमंगलम का नाम कोयला घोटाले में पिछले कुछ दिनों से सुर्खियों में है।

शिवसेना के मुखपत्र 'सामना' के संपादकीय में उद्धव ने यह बात लिखी है। उन्होंने प्रधानमंत्री पर प्रहार करने के लिए पूर्व कोयला सचिव पीसी परख की तारीफ भी की है। कोयला घोटाला मामले में सीबीआई ने परख के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज की थी, जिसके बाद परख ने कहा था कि अगर वह आरोपी हैं तो प्रधानमंत्री को आरोपी नंबर एक बनाया जाना चाहिए अपने लेख में उद्धव ने उद्योगपति कुमारमंगलम बिड़ला के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के लिए भी सीबीआई को आड़े हाथों लिया।

उन्होंने सवाल किया कि अगर सीबीआई बिड़ला को दोषी मानती है तो घोटाले के समय कोयला मंत्रालय संभालने वाले प्रधानमंत्री निर्दोष कैसे हैं। उन्होंने लिखा, 'बिड़ला जैसे उम्दा उद्योगपति के खिलाफ एफआईआर करके सीबीआई ने देश की अर्थव्वस्था के मुंह में जबरन जहर उड़ेल दिया है। यह पहले से मौत के बिस्तर पर पड़ी अर्थव्यवस्था को मार देगा।'

वहीं दुसरी तरफ शिवसेना नेता मनोहर जोशी ने शिवसेना के कार्यकारी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे को खत लिखकर कहा कि उनसे कोई भी गलती नहीं हुई है। जोशी ने लिखा कि मैं एक शिवसैनिक हूं और जिंदगी भर शिवसैनिक ही रहूंगा।

मनोहर जोशी ने बाल ठाकरे के स्मारक में देरी को लेकर बयान दिया था। बताया जाता है कि इसके बाद से ही उद्धव ठाकरे उनसे काफी नाराज चल रहे हैं। शिवसेना के दिग्गज नेता मनोहर जोशी कल देर रात मुंबई लौट आए।

इस मामले में आज जोशी उद्धव ठाकरे से उनके घर मातोश्री में मुलाकात कर सकते हैं। दशहरा रैली के दरम्यान हुए वाकये के बाद से ही मनोहर जोशी मुंबई के बाहर चले गए थे। वह पिछले चार दिनों से किसी के संपर्क में नहीं थे। उनका फोन भी लगातार पहुंच से बाहर आ रहा था। बता दें कि दशहरा रैली के दौरान उद्धव समर्थकों के विरोध के बाद मनोहर जोशी को मंच छोड़कर जाना पड़ा था। मनोहर जोशी ने एक कार्यक्रम में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व सवाल खड़े किए थे। उन्होंने कहा था कि बाला साहेब ठाकरे के देहांत के एक साल बाद भी उनका स्मारक नहीं बन सका है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You