छठ पूजा के बहाने पूर्वांचली पर डोरे डाल रही भाजपा

  • छठ पूजा के बहाने पूर्वांचली पर डोरे डाल रही भाजपा
You Are HereDelhi Election
Tuesday, October 29, 2013-3:34 PM

नई दिल्ली,(धनंजय कुमार): सत्ता का स्वाद चखने की बेचैनी भाजपा में किस तरह छाई हुई है इसका अंदाजा भाजपा की नई रणनीति से लगाया जा सकता है। अबतक पूर्वांचलियों को उपेक्षित कर रही भाजपा को इस बार पूर्वांचली नेता व मतदाता ही नहीं, पूर्वांचली त्यौहार भी काफी भाने लगे हैं। प्रदेश भाजपा ने पूर्वांचल के सबसे बड़े त्यौहार छठ पूजा को लेकर विशेष तैयारी शुरू कर दी है और पूर्वांचल प्रकोष्ठ को विशेष रूप से दिशा-निर्देश जारी कर छठ घाटों पर मुस्तैद कर दिया है।

भाजपा पूर्वांचल प्रकोष्ठ के कार्यकत्र्ता राजधानी के अधिकांश छोटे-बढ़े छठ घाटों पर जाकर न सिर्फ तैयारियों का मुआयना कर रहे हैं, बल्कि जरूरत पडऩे तैयारी में हाथ भी बटा रहे हैं। पार्टी नेताओं की माने तो छठ पूजा एक ऐसा त्यौहार है जिसमे एक ही जगह पर अधिकांश पूर्वांचली मतदाताओं से रू-ब-रू होने का मौका मिल जाता है और यदि इस त्यौहार में पूर्वांचली मतदाताओं का साथ मिल गया तो दिल्ली की सत्ता ज्यादा दूर नहीं होगी।

दिल्ली में बसे पूर्वांचली मतदाता दिल्ली के कुल 7 विधानसभा सीटों में से 27 विधानसभा क्षेत्रों में अपना दबदबा रखते हैं। यही कारण है कि आगामी विधानसभा चुनाव में पूर्वांचल के प्रवासी मतदाताओं की भूमिका अहम होगी। भाजपा की ओर से ही कराए गए सर्वेक्षणों में किए गए दावों को मानें तो 7 में से 27 विधानसभा क्षेत्र ऐसे हैं जिनमें पूर्वांचली मतदाता 2.38 प्रतिशत तक हैं।

सर्वें के अनुसार पूर्वी दिल्ली के 13 विधानसभा क्षेत्रों में पूर्वांचली मतदाताओं का दबदबा है तो पश्चिमी दिल्ली के 5 विधानसभा क्षेत्रों में इनकी स्थिति काफी मजबूत है। इसी तरह उत्तरी दिल्ली के 5 और दक्षिणी दिल्ली के 4 विधानसभा क्षेत्रों में पूर्वांचली मतदाताओं का मत प्रतिशत 24 से 31 प्रतिशत तक है। भाजपा की ओर पूर्वांचली मतदाताओं को लेकर करवाए गए सर्वे के अुनसार सबसे ज्यादा पूर्वांचली मतदाता त्रिलोकपुरी
में हैं।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You