राजनांदगांव में निर्दलीय प्रत्याशी बने वीआईपी

  • राजनांदगांव में निर्दलीय प्रत्याशी बने वीआईपी
You Are HereNational
Friday, November 01, 2013-12:52 PM

रायपुर: छत्तीसगढ़ में पहले चरण के लिए होने वाले विधानसभा चुनाव में अब तरह-तरह के नजारे देखने को मिल रहे हैं। इन क्षेत्रों में चुनाव लडऩे वाले प्रत्याशियों की सुरक्षा पर निर्वाचन आयोग ने गंभीरता दिखाई तो निर्दलीय प्रत्याशी भी अबकी बार वीआईपी बन गए। हरेक प्रत्याशी को को दो-दो गार्ड मिले हैं। प्रत्याशी अब अपने गार्डों को साथ लेकर प्रचार करने निकल रहे हैं। मुख्यमंत्री के चुनाव क्षेत्र में भी ऐसे निर्दलीय प्रत्याशी दिखे, जिनकी बाइक पर पीछे बंदूकधारी गार्ड बैठा था और वे किसी वीआईपी से कम नहीं लग रहे थे।

 

यहां यह बताना लाजिमी होगा कि इस बार सभी प्रत्याशियों को सुरक्षा मुहैया करा दी गई है। नोडल अफसरों ने बताया कि प्रत्याशियों को बंदूकधारी दो गार्ड दिए गए हैं, जो शिफ्ट के हिसाब से एक-एक टाइम ड्यूटी पर रहेंगे। नक्सली प्रभावित जिला होने की वजह से बिना मांगे सभी प्रत्याशियों को सुरक्षा गार्ड दे दिए गए हैं। दो जवानों की तैनाती हर प्रत्याशी के साथ की गई है। एएसपी शशिमोहन सिंह ने बताया कि प्रत्याशी के साथ उनकी सुरक्षा के लिए एक बंदूकधारी जवान हमेशा मौजूद रहेगा। जिले में 59 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं।

 

नाम वापसी के बाद प्रत्याशी तय होते ही सभी प्रत्याशियों को गनमैन मिल गए हैं। खैरागढ़ विधानसभा क्षेत्र से 8 प्रत्याशी, डोंगरगढ़ से 10, राजनांदगांव से 14, डोंगरगांव से 8, खुज्जी से 9 तथा मोहला-मानपुर विधानसभा क्षेत्र से 10 प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे हैं। इस तरह 100 से ज्यादा पुलिस बल प्रत्याशियों की सुरक्षा में तैनात किए गए हैं।

 

एसपी डॉ.संजीव शुक्ला ने बताया कि यदि नक्सल प्रभावित क्षेत्र में प्रचार के लिए प्रत्याशी जा रहे हैं तो सुरक्षा के लिए और जवानों की ड्यूटी लगाई जाएगी। उन्हें नक्सली हमले की आशंका है तो रोड ओपनिंग पार्टी भी निकाली जाएगी। बहरहाल, इस बार प्रत्याशियों को सुरक्षा मुहैया कराए जाने से उन्हें भी सुदूर अंचलों में चुनाव प्रचार करने में आसानी हो रही है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You