लिंग परीक्षण से चाहते थे संतान, नहीं हो सकी इच्छा पूरी

  • लिंग परीक्षण से चाहते थे संतान, नहीं हो सकी  इच्छा पूरी
You Are HereNational
Tuesday, November 05, 2013-2:37 PM

नई दिल्ली(मनीषा खत्री): बेटा बेची की इच्छा ले ऑस्ट्रेलिया से भारत आए दंपति को दिल्ली हाई कोर्ट से निराशा मिली। दंपति सरोगेसी (किराए की कोख) के मार्फत एक बेटा हो और एक बेटी की चाहत रखता था। परंतु भारत में प्रसव पूर्व लिंग जांच पर रोक होने के कारण इनकी यह चाहत पूरी नहीं हो पाई। दंपत्ति ने इसके लिए अदालत का दरवाजा खटखटाया, परंतु उनको कोई राहत नहीं मिली।

चूंकि दिल्ली हाई कोर्ट ने अपने आदेश में साफ कर दिया कि सरोगेसी तकनीक का सहारा लेने वाले दंपत्ति को भी इस बात की अनुमति नहीं दी जा सकती है कि वह बच्चा पैदा करने वाली महिला का प्रसव से पूर्व लिंग जांच कराएं। इस तरह की हरकतों से लिंगानुपात पर असर पड़ता है, जिससे सामाजिक असंतुलन पैदा होने का खतरा बना रहता है। मुख्य न्यायाधीश एन.वी. रामना व न्यायमूर्ति मनमोहन की खंडपीठ ने इसी आदेश के साथ दंपति की तरफ से दायर याचिका को खारिज कर दिया है। खंडपीठ ने दंपति की उस याचिका को भी खारिज कर दिया कि विशेष परिस्थितियों में लिंग जांच की अनुमति दी जा सकती है।

खंडपीठ ने कहा कि इस मामले में कोई विशेष परिस्थिति नहीं है। दंपति चाहता था कि वह दो बार सरोगेसी का सहारा लें। परंतु दोनों बार एक जैसी संतान नहीं चाहता था। इसलिए लिंग जांच की अनुमति मांग रहा था।अगर कोई नि:संतान दंपत्ति सेरोगेसी के माध्यम से संतान की प्राप्ति करना चाहता है तो उसे इस बात की इच्छा नहीं करनी चाहिए कि उसे लड़का मिले या लड़की।
संतान प्राप्ति में इस तरह की इच्छा ठीक नहीं है। दंपत्ति एक लड़का व एक लड़की चाहता था। इसीलिए लिंग जांच करवाना चाहते हैं। लेकिन भारत में प्रसव पूर्व लिंग जांच तकनीक अधिनियम 1994 के तहत इसकी अनुमति नहीं दी जा सकती।

आस्ट्रेलिया के सिडनी शहर निवासी एंटोईनेट मैकग्रोवर व उसके पति ने दिल्ली उच्च न्यायालय में परिवार कल्याण निदेशक व दिल्ली सरकार के खिलाफ याचिका दायर की थी। याचिका में बताया गया कि मैकग्रोवर कुछ बीमारी के चलते मां नहीं बन सकती हैं। इसलिए सरोगेसी तकनीक का सहारा लेकर वह अपने परिवार को पूरा करना चाहती हैं। इस तकनीक से भारत, थाईलैंड व अमेरिका में बच्चा पैदा किए जाने की सुविधा है। इसलिए वे भारत आए। उन्होंने परिवार कल्याण विभाग से प्रसव पूर्व लिंग जांच की अनुमति मांगी, परंतु अनुमति नहीं मिली।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You